Browsing Tag

aruna roy

 राज्य में स्वास्थ्य का अधिकार कानून पास किया जाए -पवित्र मोहन 

 राजतिलक स्थली पर हुआ यात्रा का स्वागत बीओसीडब्लयू से पंजीकृत श्रमिकों का फूटा गुस्सा,  सुनवाई नहीं कर रहे श्रम विभाग के अधिकारी 28 दिसंबर, गोगुंदा - जवाबदेही कानून पास करने की मांग को लेकर प्रदेश भर में निकाली जा रही जवाबदेही यात्रा

सिलिकोसिस गम्भीर त्रासदी – मदन मेघवाल

जवाबदेही यात्रा पहुंची सिरोही जिला मुख्यालय सिरही, 27 दिसंबर,जवाबदेही यात्रा आज 8 वें दिन सिरोही जिला मुख्यालय पर पहुंची। सबसे पहले यात्रा ने नगर परिषद के सामने सभा की और और रैली की शुरुआत हुई।   नगर परिषद से जिला कलेक्टर कार्यालय तक

जवाबदेही कानून पास नहीं होने तक संघर्ष जारी रहेगा – अरुणा रॉय

ब्यावर पहुंची जवाबदेही यात्रा सूचना के अधिकार की अगली कड़ी है जवाबदेही कानून ये सरकारी अधिकारियों, कर्मचारियों और नेताओं को जवाबदेह बनाएगा - निखिल डे स्वामी कुमारानन्द, महात्मा गांधी और बाबा साहेब डॉ भीमराव अंबेडकर की मूर्ति पर

कितनी कठपुतलियाँ उपन्यास का ऑनलाइन लोकार्पण व चर्चा

( डॉ रेणुका पामेचा ) जन आन्दोलनों से जुड़े मजदूर किसान शक्ति संगठन के कर्मठ संघर्षशील जननेता शंकर सिंह के संघर्ष की जीवन गाथा को लेखक ,चिन्तक ,पत्रकार व जन आंदोलनों से जुड़े भंवर मेघवंशी ने जिस गंभीरता व पारदर्शी तरीके से उपन्यास “

अपनी ही मिट्टी के लाल से परिचित करवाता है यह उपन्यास

( डॉ. गोविंद मेघवंशी ) सामाजिक कार्यकर्ता एवं लेखक भंवर  मेघवंशी ने द्वारा लिखित कितनी कठपुतलियां उपन्यास इन दिनों पढ़ने का अवसर मिला . इसे लिखकर लेखक ने हमें शंकर सिंह जैसे ज़मीन से जुड़े एक आदर्श सामाजिक कार्यकर्ता से अपरिचित होने से

NFIW के 4 दिवसीय 21वें राष्ट्रीय अधिवेशन की हुई शुरुआत !

(28 December 2019,Jaipur)भारतीय महिला फेडरेशन का 21 वां सम्मेलन जयपुर के रवींद्र मंच पर शुरू हुआ जिसका उदघाटन राष्ट्रीय फेडरेशन की अध्यक्ष अरुणा रॉय ने किया। उद्घाटन सत्र में बोलते हुए अरुणा रॉय ने कहा कि भारतीय महिला फेडरेशन को 65 वर्ष

सूचना के अधिकार के 15 वीं वर्षगाँठ, पारदर्शिता के क्षेत्र में कईं कदम चलना बाकी !

* (जयपुर,12 अक्टूबर2019)देश में सूचना के अधिकार के लिए एक लंबा आंदोलन हुआ जिसकी शुरुआत मध्य राजस्थान से हुई और उसके बाद राजस्थान में सन 2000 में सूचना का अधिकार कानून बना और पूरे देश के लिए 2005 में यह

सरकार गरीबों का मखौल उड़ा रही है – रॉय

{ भारतीय प्रशासनिक सेवा की पूर्व अधिकारी एवं रेमन मैग्सेसे अवार्ड विजेता सामाजिक कार्यकर्ता अरुणा रॉय आम मजदूर ,किसान ,दलित ,आदिवासी ,अल्पसंख्यक तथा घुमंतू जैसे वंचित तबकों के मध्य विगत 45 बरसों से कार्यरत है ,हाल ही में शून्यकाल के…