Browsing Tag

कोरोना

कोरोना से अधिक मैं अमिताभ बच्चन से परेशान हूँ !

यह वेदना है कैलाश जी की है जो केन्द्रीय रिजर्व पुलिस फ़ोर्स में कार्यरत सहायक उपनिरीक्षक है. वे जीयो मोबाईल फोन सेवा सहायता केंद्र पर फोन करते हुए शिकायत करते हैं, जिसे एक महिला अटेंड करती है. पुलिस अफसर बोलता है-‘मेडम जी, जब भी मैं किसी

कोविड-19 : एक जैविक हथियार, जो वुहान के बीएसएल 4 लैब से लीक हुआ

प्रोफेसर फ्रांसिस ए. बॉयल नमस्ते!शांतिकामी जनों की इस उत्कृष्ट सभा में आपने मुझे अपनी बात रखने के लिए आमंत्रित किया इसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। शांति के इस उद्देश्य को मैंने अपने जीवन के पिछले पांच दशक दिए हैं। 1989

जोधपुर के इंटर्न डॉक्टरों ने चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा के खिलाफ नारे लगाए

(एस.पी.मित्तल)  स्टाइफंड की राशि बढ़ाने में रोड़ा बने हुए हैं रघु शर्माकोरोना काल में राजस्थान भर में फैल सकता है डॉक्टरों का आंदोलन।  राजस्थान के जोधपुर संभाग के सबसे बड़े सरकारी एमडीएम अस्पताल के इंटर्न डॉक्टरों ने 11 अक्टूबर को

शोषित समाज पर अत्याचार लगातार जारी हैं, ऐसा क्यों ?

(बी एल बौद्ध) कोरोना महामारी के चलते लॉक डाउन चल रहा है जिसके कारण साइकिल से लेकर हवाई जहाज तक सब कुछ रुका हुआ है लेकिन ऐसे में भी शोषित समाज पर जुल्म और अत्याचार लगातार जारी हैं, ऐसा क्यों ?ताजा घटना राजस्थान के जोधपुर जिले की है वहां

लाॅकडाउन में अनलाॅक हो गई है कालाबाजारी !

(लखन सालवी)देश में आए जानलेवा वायरस से बचाने के लिए सरकार ने देश को लाॅकडाउन कर दिया। प्रधानमंत्री मोदी ने 21 दिन का लाॅकडाउन करने की घोषणा की, यह अवधि 23 मार्च से 15 अप्रेल तक थी। 14 अप्रेल को प्रधानमंत्री मोदी ने देश को संबोधित करते हुए

क्या आरएनए-वैक्सीन से लड़ सकेंगे कोविड-19 से ?

(डॉ.स्कन्द शुक्ला) आधुनिक चिकित्सा-विज्ञान ने किस शोध द्वारा सबसे अधिक जानें बचायी हैं ? निश्चय ही इसका उत्तर 'टीकाकरण' है। हालांकि प्राचीन चिकित्सा-ग्रन्थों में भी टीकाकरण के उदाहरण वर्णित हैं , लेकिन जिस व्यापक पैमाने पर मॉडर्न

सड़कों पर यमदूत !

( कहानी यमदूत बनकर भागते मजदूरों की )  - श्रवण सिंह राठौड़ सोशल मीडिया और टीवी पर समझदार चीख रहे हैं -  'सड़कों पर यमदूत दौड़ रहे हैं। ' यमदूत ?? हां, जी, इन समझदारों को ये यमदूत ही नज़र आ रहे है। यमदूत का सीधा मतलब, वो जो

क्या लोग घर बैठे कोविड-19 के लिए कोई जाँच कर सकते हैं ?

(स्कन्द शुक्ला) जो भी इन-दिनों कोविड-19 -सम्बन्धी जानकारियों पर ध्यान रखे हुए हैं , वे जानते हैं कि डॉक्टर इस संक्रमण की डायग्नोसिस के लिए मुख्यत: जिस तरीक़े का प्रयोग कर रहे हैं , वह आरटी-पीसीआर है। रोगी या रोगाशंका वाले व्यक्ति के नाक या

कोरोना: पशुओं को लेकर भी सचेत रहें !

(स्कंद शुक्ला) वर्तमान कोविड-19 महामारी के समय लोग जानवरों को लेकर भी सशंकित और चिन्तित हैं। अनेक लोग आमिष भोजन करते रहे हैं और ढेरों के पास कोई-न-कोई पालतू जीव है। ऐसे में इनसे सम्बन्धित प्रश्नों का मन में उठना स्वाभाविक है। 

कोरोना वायरस : दलित समाज के लिए घातक हो सकता है

(डाॅ गुलाब चन्द जिन्दल 'मेघ' ) मैं बहुत चिंता में हूँ। जबसे कोरोना वायरस संक्रमण फैलने की जानकारी भारत में आने लगी है। और इस वैश्विक महामारी के खतरे और प्रसार से बचने के लिए विभिन्न उपाय किए जा रहे हैं। इनमें मंदिर, मस्जिद, चर्च,