आम जन का मीडिया
What is your relationship with the mare?

घोड़ी से तुम्हारा क्या नाता है ?

माना कि गाय तुम्हारी माता है !
लेकिन यह भी बता दो कि घोड़ी से क्या नाता है ?

लगता है घोड़ी भी इनकी कुछ तो लगती ही होगी तभी तो घोड़ी पर दलितों के बैठने पर इनको जलन होती है ! दलितों पर अत्याचार हो तो नहीं बोलते ? सवाल उठता है कि हिंदू हिन्दू भाई भाई की बात करने वाले दलित दुल्हों पर हो रहे हमलों अब चुप क्यों है ?

28 फ़रवरी 2018 की घटना सिरोही जिले के शिवगंज तहसील के अंदौर गांव में कूईया राम मेघवाल के घोड़े पर बैठ कर बंदौली निकालने की रंजिश के चलते उसके चाचा पकाराम मेघवाल को रास्ते में रोक कर लोहे के पाइप से मारपीट कर दोनो पैर तौड दिये गये हैं!

शर्म से सिर झुक जाता है, जब हमारे समाज में आज भी अन्याय, शोषण, अत्याचार जारी है और झुठी शान की खातिर सामंती सोच के भेरूसिंह उर्फ नरेंद्र सिंह व शैलू सिंह ने यह अत्याचार किया है।

जब भी कोई दलित घोड़े पर बैठता है तो सबसे ज्यादा जलन केवल एक जाति को ही क्यों होती है ? फिर भी अनुसूचित जाति के लोग आज भी इन्ही लोगों की गुलामी करने से बाज़ नही आ रहे है .

अब इस मामले में देखने वाली ये बात है कि सिरोही के पूर्व विधायक जो खुद को दलितों का मसीहा कहते है,मेघवाल समाज का साथ देते है या नही ? क्योंकि ये घटना उनके गृह तहसील में हुई है.साथ ही मंत्री ओटाराम भी साथ देते है या नही,ये भी वक्त ही बताएगा.

दोनों ही आरोपियों के विरुद्ध संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया है। मांग की जा रही हैं कि अत्याचारियो तुंरत गिरफ्तार किया जाए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.