जब तक बीजेपी को सत्ता से नहीं हटा दे,तब तक कोई सम्मान नहीं लूँगा-चन्द्रशेखर रावण

632

भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आज़ाद रावण को जेल से रिहा कर दिया गया है. चंद्रशेखर आज़ाद ‘रावण’ को मई 2017 में सहारनपुर में जातीय दंगा फैलाने के आरोप में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासूका) के तहत जेल भेजा गया था. रावण को गुरुवार रात 2:30 बजे जेल से रिहा किया गया.

भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर ‘रावण’ को 2017 के सहारनपुर दंगों में कथित तौर पर शामिल होने के आरोप में जून 2017 में गिरफ्तार किया गया था। चंद्रशेखर पर जातीय दंगे फैलाने का आरोप था बाद में उन्हें इलाहाबाद हाइकोर्ट से जमानत मिल गई थी। बाद में राज्य सरकार ने उन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) लगा दिया।

चंद्रशेखर आज़ाद ने जेल से रिहा होते ही बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा “अब बीजेपी को सरकार तो क्या विपक्ष में बैठने का मौका भी नहीं मिलेगा,जितने भी लोग जो ब्राह्मणवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे है उन सबको एक हो जाना चाहिए और गठबंधन कर लेना चाहिए “

आज़ाद ने कहा कि ‘मैं जेल से रिहा सिर्फ काम करने के लिए हुआ हूँ कोई भी सम्मान लेने की लिए नहीं’ I मै ये वादा करता हूँ की जब तक बीजेपी को 2019 में सत्ता से नहीं दे तब तक कोई सम्मान नहीं लूँगा I

उन्होंने कहा कि मेने पहले भी ये वादा किया था कि जब तक सहारनपुर में दलितों के खिलाफ अत्याचार बंद नहीं होता तब तक माला नहीं पहनूंगा और मेने उस वादे को भी पूरा किया था, और इस वादे को भी पूरा करूँगा I

Leave A Reply

Your email address will not be published.