यह कहानी हमारे देश में दलित-मुस्लिम मीडियाकर्मियों के उत्पीड़न की है !

सत्य प्रताड़ित हुआ पर पराजित नहीं !

344

( भंवर मेघवंशी )

….अंततः झूठे केस से बरी हुये पत्रकार अब्दुल हमीद बागवान !!

10 मार्च 2007 वह मनहूस दिन था ,जब मेरे दो पत्रकार साथियों ( अब्दुल हमीद बागवान और योगेंद्र सिंह पंवार ) को भीलवाड़ा पुलिस द्वारा कईं गंभीर धाराओं में दर्ज कराए गए एक मुकदमे में गिरफ्तार कर लिया।

मुझे सुबह सुबह तत्कालीन जिला कलेक्टर से यह जानकारी मिली ,यह हैरत करने वाली जानकारी थी ,क्योंकि उस शाम तक मैं अपने दोनों साथियों के साथ ही था ,मेरे निकलने के 1 घण्टे बाद ही यह घटनाक्रम घटित हो गया।
एफआईआर में आरोप लगाया गया कि सुनील जैन और अभिषेक जैन नामक दो व्यवसायियों को बैंक जाते वक्त योजनाबद्ध तरीके से एक घर मे बुलाकर महिलाओं के साथ मिलकर उनके अश्लील फोटो खींचकर उनसे 1लाख रुपये मांगे गये, उनका मोबाइल छीन लिया गया और उनकी सोने की चैन तथा नकदी लूट ली गई।
एफआईआर में भादस की धारा 395,384,292 तथा सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 67 और महिलाओ का अशिष्ट रूपण प्रतिषेध अधिनियम की धारा 4/7 लगाई गई ।

अपनी लेटलतीफी के लिये कुख्यात पुलिस ने इस मामले में बहुत तेजी दिखाई और मुकदमा दर्ज होते ही आरोपियों को तुरंत गिरफ्तार कर लिया, भीलवाड़ा जिले का मीडिया इतना उतावला था कि अपने ही साथियों के लिए सीरीज में कहानियां चटकारे ले ले कर प्रकाशित करता रहा।

दरअसल सब कुछ पूर्वनियोजित था ,पुलिस ने यह पटकथा पहले से ही रच रखी थी ,जिसको लोकदिखावे के लिए महज मंचित करना था और उसे किया गया ,एक दलित और एक मुस्लिम समुदाय से आने वाले दो निडर पत्रकारों को रंजिशन फंसाकर 9 माह 3 दिन जैल में रखा गया ,11 साल केस चला और अंततः 18 जुलाई 2018 को अदालत ने सभी आरोपियों को बरी कर दिया ,इस बीच एक पत्रकार योगेंद्र सिंह पंवार की मृत्यु हो गई, वो जीतेजी अपनी बेगुनाही साबित नहीं कर पाये।

भारतीय राज्य और उसकी पूर्वाग्रह से पीड़ित शासन प्रशासन व्यवस्था वंचित समुदाय के लोगों के साथ किस तरह का सुलूक करती है ,किस तरह से उनको बदनाम करती है ,फंसाती है और कईं साल तक अदालती कार्यवाही में डाल कर उनकी ज़िंदगी बर्बाद कर देती उसका जीवंत उदाहरण यह केस है ।

कौन थे ये पत्रकार ?
भीलवाड़ा शहर की पत्रकारिता में सक्रिय अब्दुल हमीद बागवान दैनिक हिंदुस्तान का लाल अखबार के प्रधान संपादक है और योगेंद्र सिंह पंवार दैनिक नवज्योति के फोटो जर्नलिस्ट थे ,खतरों से खेलकर खबरें प्रकाशित करने वाले बेख़ौफ़ पत्रकार ! तत्कालीन पुलिस और अपराधियों के गठजोड़ को निरन्तर उजागर कर रहे थे ,सूचना के अधिकार से सूचनाएं लेकर उनका विश्लेषण करके अपने समाचार पत्रों में उसको उजागर करने वाले जाबांज़ कलम के सिपाही।
पुलिस महकमा, माफिया तो इनसे खफा थे ही, खबरनवीस बिरादरी भी इनसे नाखुश थी ,एक तो निडर लोग,चाटूकारिता से दूर,लौहा लेने वाले ,दूसरा दलित मुस्लिम समुदाय से आने वाले ,मनुस्ट्रीम मीडिया के आंखों की भी किरकिरी बन गये, नतीजा यह हुआ कि उनको सबक सिखाया गया, ऐसे मुकदमे में फंसा कर जिसकी इन्होंने कभी कल्पना भी नहीं की थी ।

एक झूठ रचा गया, जो इस तरह था -” भीलवाड़ा निवासी व्यवसायी सुनील जैन और अभिषेक जैन 10 मार्च 2007 को करीब 8 बजे मोटरसाइकिल से ट्रांसपोर्ट नगर से बैंक जा रहे थे कि आजादनगर में एक औरत ने खिड़की से आवाज़ दी कि मेरे किवाड़ की कुंडी खोल दो ,इंसानियत के नाते उन्होंने मोटरसाइकिल रोक कर कुंडी खोल दी तो उस औरत ने उनको अंदर बुला लिया, वे दोनों औरत से बात कर रहे थे कि बाहर से किसी औरत ने दरवाजा बंद कर दिया,इतने में मकान से चार औरतें और दो पुरुष निकले ,जिन्होंने उनके अश्लील फोटो खींच लिए,बैग से 14950 रुपये और 23 ग्राम सोने की चैन तथा मोबाइल लूट लिया और 1 लाख रुपयों की मांग की ”

पुलिस ने इस मामले में थाना प्रतापनगर में एक एफआईआर 127/2007 दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार कर अनुसंधान किया ,शिनाख्त ,फर्द जब्ती और जुर्म प्रमाणित मानकर चालान न्यायालय में पेश किया ।

11 साल चले इस केस का निपटारा करते हुए अदालत में सामने आया कि इस प्रकरण के फरियादी अभिषेक जैन और सुनील जैन के बयानों में ही विरोधाभास है,वे जिस महिला की आवाज़ पर कुंडी खोलना बता रहे हैं, कॉल डिटेल यह जाहिर करती है कि उक्त महिला को फरियादी पहले से न केवल जानते थे ,बल्कि बात भी करते थे, उस दिन भी उनकी बात हुई थी ,शिनाख्तगी से पहले सभी आरोपियों को फरियादी को पुलिस ने थाने में दिखाया, उनके नाम पते बताये, फिर शिनाख्त की कार्यवाही की गई। दोनो पत्रकारों से पुलिस नाराज थी ,इसलिए उनको इस प्रकरण में जबरन घसीटा गया ,इतना ही नहीं बल्कि मोबाइल में अश्लील क्लिपिंग के मामले में पुलिस कोई साक्ष्य प्रस्तुत नहीं कर पाई ,न ही अब्दुल हमीद बागवान की तरफ से उक्त क्लिपिंग को अन्यत्र भेजने या उसका प्रकाशन ,मुद्रण करने की बात सामने आई ,यहां तक कि फरियादियों से कोई राशि मांगे जाने का तथ्य भी साबित नहीं हुआ है .

पुलिसिया झूठ का तब भी पर्दाफाश हुआ ,जबकि स्पेशल केस ऑफिसर लगाकर पूरी सुनवायी करवाई जाने के बावजूद पुलिस द्वारा खड़े किये गये अधिकांश झूठे गवाह अपनी गवाही से मुकर गये और उन्होंने स्वेच्छा से अपने बयान बदल दिये .

अंततः न्यायालय अपर सेसन न्यायाधीश संख्या 3 भीलवाड़ा ( राज) ने अपने फैसले में कहा कि -” ऐसी स्थिति में जब अब्दुल हमीद द्वारा उन अश्लील क्लिपिंग को कहीं अन्य जगह नहीं भेजा गया या उनका किसी रूप में प्रकाशन ,विक्रय ,परिचालन नहीं किया गया है तो धारा 292 आईपीसी ,धारा 4/7 महिलाओं का अशिष्ट रूपण तथा सूचना प्रोद्योगिकी अधिनियम की धारा 67 के अंतर्गत दोषी ठहराया जाना उचित प्रतीत नहीं होता है ,प्रकरण की विवेचनानुसार अभियोजन पक्ष अभियुक्तगण के विरुद्ध आरोपित अपराध युक्तियुक्त संदेह से परे साबित करने में असफल रहा है ,अतः अभियुक्तगण को संदेह का लाभ देकर दोषमुक्त घोषित किया जाना न्यायोचित प्रतीत होता है।
9 महीने जी जेल ,मीडिया के अपने ही साथियों द्वारा क्रमबद्ध तरीके से की गई बदनामी और 11 साल की न्यायिक सुनवाई की लंबी प्रक्रिया से गुजर कर अब्दुल हमीद बागवान और योगेंद्र सिंह पंवार दोषमुक्त हो गये है ,इस बीच बहुत कुछ गुजर चुका है, योगेंद्र पंवार अपनी बेगुनाही की खबर सुनने को दुनिया में ही मौजूद नहीं है और अब्दुल हमीद बागवान पत्रकारिता की दुनिया को अलविदा कहकर कन्सट्रक्शन की दुनिया में चले गये है ।

दो साथी जो कलम की ताकत से ,सूचना के अधिकार की शक्ति का प्रयोग करते हुए पत्रकारिता के ज़रिए दुनिया को बदलने निकले थे ,उनके साथ कानून और व्यवस्था ने कैसा खेल खेला,किस तरह उनकी जिंदगियों को बर्बाद किया ,किस तरह ब्लैकमेलिंग ,अश्लीलता ,लूट के कलंक का टीका उनके ऊपर अधिरोपित किया ,यह सोचकर रूह कांपती है ,फिर भी अब्दुल हमीद बागवान ने हिम्मत नहीं हारी ,योगसा के दुनिया से चले जाने के बाद भी न्याय की उम्मीद में लड़ते रहे । जब भी मिलते कहते रहे कि -” बॉस अपनी बेगुनाही का फैसला एक दिन दुनिया के सामने रखकर बता दूंगा कि हम निर्दोषों को जबरन फंसाया गया ,ताकि हम पत्रकारिता छोड़ दें , हम आरटीआई का उपयोग न करें ,अन्याय अत्याचार के खिलाफ नहीं बोलें ,पर हम एक दिन जीत कर दम लेंगे ”

अंततः उन्होंने कर दिखाया,अपनी बेगुनाही साबित कर दी ,उनको फंसाने वाले ज्यादातर पुलिसकर्मी रिटायर्ड हो चुके है ,कुछेक को उनके किये की सज़ा मिल चुकी है, कुछ को मिलनी बाकी है । सबसे दुखद पहलू यह है कि गिरफ्तारी और जैल के वक़्त जिन जिन समाचार पत्रों ने बेहद उत्साहित होकर उनके विरुद्ध धारावाहिक कहानियां छापी ,वे अब इस दोषमुक्ति के फैसले पर एक भी लाईन छापने को तैयार नहीं है ,भारत के दलित अल्पसंख्यक विरोधी मीडिया का दोगलापन इस प्रकरण में साफ साफ नजर आता है,जिसकी भर्त्सना की जानी चाहिए ।

कुलमिलाकर इस निर्णय को पढ़कर मुझे व्यक्तिगत रूप से बेहद सुकून मिला है, मैं उम्मीद करता हूँ कि अब्दुल हमीद बागवान जैसा झुझारू,निडर कलम का धनी पत्रकार पुनः पत्रकारिता की दुनिया को प्यार करेगा ।

(लेखक दलित,आदिवासी, घुमन्तू और अल्पसंख्यक समुदाय के मुद्दों पर राजस्थान में सक्रिय हैं )

Leave A Reply

Your email address will not be published.