आम जन का मीडिया
This is the time of devotees!

यह समय भक्तों का है !

– सरला माहेश्वरी
यह समय
विचार और विचलित होने का नहीं
विदेह होकर
जीने की कला का
समय है.
यह मनुष्य की तरह नहीं
मधुमक्खी और मकड़ी की तरह
विचारशून्य, यंत्रवत
एक ही प्रकार की
बाबा आदम के ज़माने की रचना को
दोहराते रहने का समय है.
यह सवाल का नहीं
आस्था का समय है
यह संशय का नहीं
विश्वास का समय है.
यह मोहमुग्ध, मंत्रमुग्ध
आज्ञाकारिता का समय है
यह युक्ति का नहीं
उक्ति का समय है.
यह मुक्ति का नहीं
भक्ति का समय है
यह खुद भूतों के
ओझा बनने का समय है.
यह धर्मशास्त्रों
वेदवाक्यों का समय है
तुम्हारे “पापों” के लिये
तुमसे ज़बरन
प्रायश्चित कराने का समय है.
यह तुम जैसे
तुम्हारे जैसे कलाकारों की
“मनमानी” का
मुक्त अभिव्यक्ति का
समय नहीं है.
यह
मनुष्यों की तरह
सर उठाने का नहीं
ग़ुलामों की तरह
सर झुकाकर
जीने का समय है.
यह सहिष्णुता का समय जो है !

Leave A Reply

Your email address will not be published.