मानवाधिकार संगठन NCHRO की फेक्ट फाइंडिंग टीम ने किया दंगाग्रस्त टोंक क्षेत्र का दौरा

124

दंगाग्रस्त क्षेत्र टोंक का मानवाधिकार संगठन NATIONAL CONFERDRATION OF HUMAN RIGHT ORGANIZATIONS के एक दल ने 25मार्च को दौरा किया, टीकम शाक्य की अगुवाई में प्रदेश उपाध्यक्ष अब्दुल सलाम तथा महासचिव शब्बीर हुसैन खान टोंक पहुंचे साथ मे समाजसेवक हकीकत अली तथा समाज सेवक शहजाद खान भी थे टोंक के दंगे के शिकार महिलाओं और पुरुषों से भेंट की घटना स्थल का दौरा कर तथ्य संग्रहण किये शाम को प्रेस कांफ्रेंस कर पत्रकारों से वार्ता की एवम स्प्ष्ट किया कि किस प्रकार स्थानीय प्रशासन मानवाधिकारों एवम महिला अधिकारों का हनन कर रहा है किस प्रकार अवैधानिक तरीके से रात में प्रशासन द्वारा घरों में जबरन घुस कर तलाशी ली जा रही है एवम रात को लोगों की गिरफ्तारी की जा रही है ।

टीम ने पता किया कि कैसे जुलूस नारायण टाकीज के पास से रवाना हो कर घण्टाघर होता हुआ बड़ाकुआ पहुंचा रास्ते मे किस तरह से उपद्रवियों ने उपद्रव करने की कोशिश की और कैसे एक प्लान के तहत जुलूस समाप्ति के समय एक जुलूस के ही व्यक्ति द्वारा जुलूस पर पत्थर फेंके कर जुलूस को अपराध की तरफ भड़कया गया ।

पूरे प्रकरण में पुलिस की गतिविधि बेबस या लाचारी की हालत में ही रही जिसका फायदा उठाते हुए उपद्रवियों ने जमकर तांडव किया मस्जिदों में पत्थर फेंके राहगीरों को पीटा दुकाने जलाई लूटपाट की तोड़फोड़ की कुल मिला कर दहशत का माहौल बना दिया नवाबों के शहर की गंगा जमुनी तहजीब को नष्ट किया गया, इसके बाद पुलिस का दमन शुरू हुआ अपनी नाकामी छुपाने के लिये बेगुनाह लोगों के घरों पे दबिश दी गई जबरन लोगों को जुर्म कबूल कराने की कोशिश की गई, कई पीड़ितों की रिपोर्ट नही ली गई कइयों की रिपोर्ट्स को एक साथ मिला कर एक ही fir बनाई गई अभी भी स्थानीय बेगुनाह लोग इसी दहशत के माहौल में जी रहे हैं कि कब किस के घर मे घुस कर पुलिस उनके बच्चों को उठा कर ले जाये , कई लोगों को पुलिस ने धमकी दी कि तुम्हारे बच्चों को तो हर हालत में गिरफ्तार करके रहेंगे, एक बीमार मां जिसकी अधीक्षक तक ने रिपोर्ट दर्ज नही करवाई जिसकी हालात बिगड़ने पर सहादत अस्पताल लाने पर वहीं पर कोतवाल अशोक मीणा द्वारा धमकाने का मामला भी है कि कुछ भी हो जाये तेरे बेटे को नही छोडूंगा।

इन घटनाओं की जानकारी एवम चर्चा के लिए जब NCHRO के दल ने SP से मिलने की कोशिश की तो उन्होंने असमर्थता बताई कि वे शहर से बाहर हैं, तो इसके उपरांत जिला कलेक्टर से उनके बंगले पर मिले जहां उनसे विस्तृत चर्चा हुई, जिसमें उन्होंने माना कि किसी भी कार्यक्रम को हल्के में लेना भारी पड़ा और DJ की तीव्र ध्वनि और नाच गाने की वजह से उपद्रवियों ने हंगामा किया,जिसको समय रहते प्रशासन द्वारा रोक दिया गया . जो घटना हुई वह सिर्फ 10 से 15 मिनट में सारी घटित हो गई और 15 मिनट में इस पर काबू पा लिया गया,पूरे घटनाक्रम को जानने के उपरांत उपाध्यक्ष अब्दुल सलाम के अनुसार प्रशासन की लापरवाही ने ही सारा माहौल बिगड़ा है,प्रशासन ने बिना परमिशन जुलूस निकालने पर भी इसके जिम्मेदारों पर कोई कार्यवाही नही की,टीकम शाक्य ने मीडिया के सम्मुख कहा कि जितना फासीवाद और मनुवाद को प्रशासन औऱ मीडिया के द्वारा बढ़ावा दिया जाएगा उतने ही हालात विकट होते चले जायेंगे दोनो को इसका विशेष ध्यान रखना चाहिए एवं मीडिया को स्वयं अपनी जानकारी जुटा कर खबर प्रसारित करनी चाहिए, अधिकांश पत्रकार सिर्फ लोगों और पुलिस की बनाई हुई खबरों को ही प्रसारित करते हैं,NCHRO के जनरल सेक्रेटरी शब्बीर हुसैन खान ने बताया कि स्थानीय सहयोग से दिन में तथ्य संग्रहण किये गए अब इन तथ्यों के आधार पर रिपोर्ट तैयार कर के मानवाधिकार आयोग को एवम संबंधित मंत्रालयों को तथा ग्रह विभाग को भेजी जाएगी ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.