Browsing Tag

dalit

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का एससी-एसटी के प्रति प्रेम !

(त्रिभुवन) वह देश का एक महाकाय संगठन है। उसकी एक राजनीतिक शाखा है। वह आज तक आरक्षण के ख़िलाफ़ था। एकदम खुला। निडर और साहसी। डंके की चोट पर। इस संगठन से जुड़े हमारे 'मित्र' एससी-एसटी को लेकर बहुत कुछ ऐसा कहते थे, जो बताता था कि भारतीय…

  उपजाति अंततः जाति को ही मजबूत करती है !

“ समाज के दानवीरों ,कब तक अपनी उपजाति को कभी विवाह सम्मेलन के नाम पर, कभी होस्टल के नाम पर, कभी संगठन के नाम पर, कभी होनहार छात्रों के पुरस्कार के नाम पर होने वाले कार्यक्रम में, कभी उपजाति महासभा के अनेकों कार्यक्रम में पैसे दान करते रहोगे…

  राष्ट्रीय मूलनिवासी महिला संघ का चौथा राष्ट्रीय अधिवेशन 20 जुलाई को !

महिलाओं की स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए बाबा साहेब ने कहा था कि -'' महिलाओं का एक स्वतंत्र संगठन होना चाहिये'' उनका मानना था कि अगर महिलाओं का एक स्वतंत्र संगठन होगा तो,वे समाज में व्याप्त रूढ़िवादी परंपराओं व महिलाओं की स्थिति को बदतर…

पाखंडों से मुक्त होकर दलितों पिछड़ों को अपना भविष्य खुद बनाना है.

धर्म, इश्वर और आलौकिक की गुलामी एक लाइलाज बिमारी है. भारत में इसे ठीक से देखा जा सकता है. कर्मकांडी, पाखंडी और अपनी सत्ता को बनाये रखने वाले लोग ऐसी गुलामी करते हैं ये, बात हम सभी जानते हैं. लेकिन एक और मजेदार चीज है तथाकथित मुक्तिकामी और…

क्या आप रमेश भंगी को जानते है ?

रमेश भंगी से मैं पहली बार कल ही मिला.वे भारत सरकार के अनुवाद ब्यूरो में काम करते हैं,मैं उनके लिखे हुए लेख आदि पहले से पढता हूँ.मैं और मेरी पत्नी हिमाचल से दिल्ली आये हुए हैं सो कल रमेश भाई के घर उनसे मिलने पहुँच गए,रमेश भाई और उनकी पत्नी…

दलित महिला सरपंच के साथ मारपीट !

राजस्थान वो राज्य है जहाँ दलित सरपंच हो या विधायक, उनके साथ बैखोफ होकर मारपीट, गालीगलौज, धक्का मुक्की, जातिगत अपमान कुछ भी किया जा सकता है .यह काम आम नागरिक से लेकर पुलिस तक कोई भी कर लेता है, क्योंकि कानून और व्यवस्था उसको कुछ नहीं बिगाड़…

आप बने मुल्क के प्रथम विधि सरताज !

महू मध्य पैदा भये भीमा बाई से भीम । पिता सकपाल रामजी धन्य ऊर्जा अपार असीम ।। बालपनै नाम रखा भीम चौहदवे अंक । वतन धरा पाताल पद महार समाज अति रंक ।। जगी ज्ञान की ज्योत जगमग अलग एक भारी । डिग्रीया देश विदेश की पढ आये ढेर सारी ।। ऊंचा…

लीला मेघवाल जब घोड़ी पर चढ़ी …..!

उस परिवेश और भूगोल में दलित दूल्हे का भी अपने विवाह में घोड़ी पर चढ़ कर निकलना दुश्वार था, मगर रविवार को दुल्हन लीला ने वर की जगह घुड़चढ़ी कर अपने हको हकूक की नयी इबारत लिखी,गांव में तनाव को देखते हुए लीला की बिन्दोली पुलिस सुरक्षा में निकली.…

       कोविन्द केवल नाम के लिए दलित है।

  रामनाथ कोविन्द को राष्ट्रपति पद का अपना उम्मीदवार घोषित कर, भाजपा ने एक बार फिर प्रतिकात्मक राजनीति का दांव खेला है। कोविन्द केवल नाम के लिए दलित हैं। असल में वे एक खालिस हिन्दू राष्ट्रवादी हैं। मोदी सरकार के पिछले तीन सालों के कार्यकाल…

मेरी कला यात्रा ( संदीप कुमार मेघवाल )

मेरा जन्म एक साधारण परिवार मे हुआ जो उदयपुर जिले मे गांव गातोड़ , जयसमंद झील के समीप स्थित हैं। पिता जी पेशे से शिक्षक है। कला यात्रा की बात करूँ  तो दरअसल परिवार और क्षेत्र में आधुनिक कला से तो दूर-दूर तक कोई संबंध नही रहा , लेकिन  क्षेत्र…