Browsing Tag

साहित्य

राष्ट्रवाद, टैंक और फूल

‘‘जनरल, कुछ समस्याएं आ रही हैं ?’’ ‘‘बोलो क्या हुआ ? खुल कर बोलो।’’ ‘‘कुछ लोग तर्क करते हैं ?’’ ‘‘तर्क करते हैं...............यह सब बर्दाश्त नहीं होगा।’’ ‘‘हम इन लोगों को ठीक कर रहे हैं जनरल। मतलब जेलों में भर रहें हैं।’’ ‘‘जल्दी…