Browsing Tag

नोटबंदी

नोटबंदी के 2 साल: काले धन के लिए आम जनता को भारी कीमत चुकानी पड़ी !

(यश मेघवाल)   दो साल पहले नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी की घोषणा कर राष्ट्र को आश्चर्यचकित कर दिया था I 500 और 1000 रुपए के नोट जो भारतीय मुद्रा में लगभग 86% थे वो अब बंद कर दिए गए । भारतीय सर्वहारा एक भ्रम में था कि नोटबंदी असमानता को कम करने…

जनता हर सत्ता का शास्वत विपक्ष है !

" पोलिटिकली चाहे जितना भी इनकरेक्ट हो, लेकिन नोटबन्दी और उसके बाद जीएसटी का जहर देकर देश के साथ छल करने के अपराध मे वर्तमान सरकार के नीति नियंताओं को जेल भेजने की मांग कान्स्टीट्यूशनली एकदम करेक्ट है." मेरी उपरोक्त पोस्ट पर एक समझदार कमेंट…

रघुराम ने समझाया था – ‘ नोटबंदी मत कीजिये राजन’ !

पूर्व रिजर्व बैंक गवर्नर रघुराम राजन ने कल एक एक नया खुलासा किया जिससे नोटबन्दी को लेकरे मोदी सरकार का सबसे बड़ा झूठ सामने आ गया हैं अपनी किताब में राजन ने लिखा है कि उनके कार्यकाल के दौरान कभी भी आरबीआई ने नोटबंदी पर फैसला नहीं लिया था. अब…

मोदी सरकार ने किया 19 हज़ार 340 करोड़ का घोटाला !

"तेल कंपनी और सरकार की सरेआम लूट के चलते 19 हजार 340 करोड़ का महा घोटाला हो चुका है ,मगर जनता और मीडिया दोनों ही खामोश है " 16 जून 2017 से सरकार ने निर्णय लिया कि तेल कीमतें रोजाना बढ़ेंगी और घटेंगी,यह सरकार का एक और मास्टर स्ट्रोक था जनता…

नोटबंदी का रिजल्ट आ गया है !

बीबीसी मे एक लेख पब्लिश हुआ है उसका शीर्षक मुझे बहुत दिलचस्प लगा,उसका शीर्षक है-'नोटबंदी के फ़ेल होने पर देश में गुस्सा क्यों नहीं?.लेखक जस्टिन रोलेट दक्षिण एशिया के संवाददाता है,वह लिखते हैं -"एक वक़्त ऐसा लगा था कि दुनिया की सातवीं सबसे…

अरुण जेटली नाच क्यों रहे है ?

जेटली नाच रहे हैं कि सारे नोट जमा हो गये और फिर धीरे-धीरे चलन में आ गये,नोटबंदी की इससे बड़ी सफलता क्या होगी ? कोई उनसे पूछे कि इसके पहले क्या ये नोट जमीन के नीचे गड़े हुए थे, चलन में नहीं थे ? वे कहते हैं एक बार बैंक से घूम जाने पर…

नोटबंदी गलती नहीं ब्लंडर है !

नोटबन्दी के दीर्घकालिक नुकसान की पहली किस्त रिजर्व बैंक ने जारी कर दी है पिछले साल नवंबर में लागू की गई नोटबंदी के दौरान देश में प्रचलन में रहे 15.44 लाख करोड़ रुपये के प्रतिबंधित नोट में से 15.28 लाख करोड़ रुपये बैंकिंग सिस्टम में वापस लौट…

नोटबंदी सबसे वाहियात फैसला था !

RBI की रिपोर्ट के बाद अब सरकार में अगर ज़रा भी ( रत्ती भर भी) नैतिकता है तो कबूल करे कि नोटबंदी सबसे वाहियात फैसला था. लोगों को बेरोज़गार करने, सैंकड़ों लोगों की जान लेने और हज़ारों उद्योग धंधों को नष्ट करने के अलावा इससे कुछ भी हासिल…