Browsing Tag

नेहरु

दक्षिणपंथियों की धमकियाँ और कांग्रेस की आपराधिक चुप्पी !

पता नहीं क्यों प्रतिक्रियावादी दक्षिणपंथियों को संगीत नहीं भाता । यदि गुलाम अली की गजलों का कार्यक्रम घोषित होता है तो ये धमकी देते हैं कि हम उसे नहीं होने देंगे। अभी हाल में इन्होंने ऐसी ही घिनौनी हरकत की जब उन्होंने घोषणा की कि स्मिक मैके…

अब सियासत का दिल फकीरी में नहीं लगता

जिस सल्तनत का बादशाह फ़क़ीर हो ,उस रियासत का हर शहरी बादशाह होता है. यह पुरानी कहावत है.वो राजाओं का दौर था. शायद उस दौर में कोई कोई राजा- बादशाह खुद की जिंदगी को फकीराना अंदाज में जीता होगा.इसीलिए यह कहावत बनी होगी. कहावत वो जो व्यापक…