आम जन का मीडिया
Pankaj Dhankar: Emerging young farmer leader!

पंकज धनखड़ : उभरता युवा किसान नेता !

वर्ष 1996 से छात्र राजनीति से अपने जीवन की शुरूआत करने वाले झुंझुनू जिले के युवा पंकज  धनकड़ अपने झुंझारूपन व क्रांतिकारी विचारों के कारण आज राजस्थान प्रदेश की किसान राजनीति के केंद्र बिंदु बन गये हैं.आईसा,एस एफ आई व एन आर एफ जैसे छात्र संगठनों से अनुशासन व नेतृत्व क्षमता का विकास हुआ, जिसके कारण आज किसी भी संगठन में जाते हैं तो संगठन को मजबूती प्रदान करने में इनकी मुख्य भूमिका होती है.
छात्रों व किसानों के लिये बड़े बड़े आंदोलन किये लेकिन कभी भी हार स्वीकार नहीं की, हर बार सरकार को झुकाकर मांगे मनवाने  में सफल हुये, इन आंदोलनों की कीमत इन्हें जेल जाकर ही चुकानी पड़ी.यही कारण है कि इनके अब तक के जीवन के अधिकतर दिन धरने-प्रदर्शन व जेल में ही बीते हैं.
जनवरी 2016 में किसानों की दुर्दशा के कारणों पर चिंतन करते हुये जो विचार उनके मन में आये वो आज किसान आंदोलन के कारण बने.किसानों को न्याय दिलवाने के लिए एक नया संगठन- ‘ किसान बचाओ, देश बचाओ संघर्ष समिति ‘ का गठन कर किसानों को कर्ज मुक्ति, लाभकारी मुल्य सहित अन्य मांगो को लेकर प्रदेश में बड़े आंदोलन की नींव रखी.
15 सितंबर 2017  को इन्ही मुद्दों को लेकर जो ” किसान अधिकार यात्रा ” शुरू की उससे पुरे प्रदेश में पंकज  धनकड़ की पहचान किसान नेता के रूप में हुई .पंकज धनकड़ द्वारा जब पहली बार किसानों की इन मांगों को लेकर प्रदर्शन किया तो कुछ लोग इनकी हंसी उड़ा रहे थे लेकिन आज वही लोग पंकज. के साथ आंदोलन में शामिल है और राजनीतिक पार्टीयां भी अगला चुनाव इन्ही मुद्दों के साथ लड़ने जा रही है.
मैं व्यक्तिगत पिछले दो साल से पंकज  धनकड़ को जानता हूँ.इस व्यक्ति में जबरदस्त ऊर्जा है.किसानों के मुद्दों पर किसान संगठनों को एक जाजम पर लाना हो या प्रदेश में कांग्रेस-बीजेपी का विकल्प खड़ा करना हो. महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं.लोग कहते हैं कि जाटों से दूसरी जातियां नाराज है लेकिन इनकी खास बात यह है कि दलित से लेकर ब्राह्मण व हिन्दू से लेकर मुसलमान तक , सभी वर्गों व धर्मों के लोग इनके साथ चलते हैं.
– राम नारायण चौधरी

Leave A Reply

Your email address will not be published.