सांस्कृतिक संवेदनशीलता बढ़ाना मीडिया की जिम्मेदारी – चतुर्वेदी

62

– राहुल

हिन्दू कालेज में अभिरंग की गतिविधियों का उद्घाटन…

नयी दिल्ली। पत्रकार ही सत्ता के गाजे बाजे में शामिल हो जाएगा तो सच कैसे लिखेगा? भारतीय मीडिया में सच की इस कमी के कारण ही अब समाज पत्रकारों पर विश्वास नहीं करता। यदि आज मीडिया में कोई सच्ची न्यूज़ है तो केवल क्रिकेट का स्कोर ही सच्ची न्यूज़ है। सुप्रसिद्ध पत्रकार और लेखक अनुराग चतुर्वेदी ने हिन्दू कालेज की हिंदी नाट्य संस्था ‘अभिरंग’ के नए सत्र के उद्घाटन समारोह में कहा कि संस्कृति में मनुष्य जीवन से जुड़े सभी विषय भोजन, भवन, भाषा, भूषा, धर्म, सभ्यता और कलाएं समाहित हैं।

उन्होंने धर्मयुग से जुड़े सांस्कृतिक पत्रकारिता के अपने अनुभव सुनाए। ‘संस्कृति और मीडिया’ विषय पर बोलते हुए चतुर्वेदी ने उन दिनों में मुंबई में सक्रिय नाटक और रंगमंच से जुड़े तीन व्यक्तित्वों की विस्तृत चर्चा भी की। उन्होंने धर्मवीर भारती, विजय तेंदुलकर और सत्यदेव दुबे के कृतित्व की जानकारी देते हुए कहा कि नयी पीढ़ी को अपनी परम्परा से जुड़ना चाहिए। धर्मवीर भारती के नाटक ‘अंधा युग’ और विजय तेंदुलकर के नाटकों ‘घासीराम कोतवाल’ तथा ‘कमला’ की विशेष चर्चा करते हुए उन्होंने मीडिया में सांस्कृतिक पक्ष के अवमूल्यन को चिंताजनक बताया। अपने उद्बोधन के बाद विद्यार्थियों के साथ संवाद में उन्होंने कहा कि मीडिया जनसमूह तक सूचना, शिक्षा और मनोरंजन पहुंचाने का माध्यम है। अखबार की विश्वसनीयता खत्म होने को उन्होंने संपादक संस्था के ह्रास से जोड़ते हुए कहा कि अखबार का नेतृत्व अब प्रबंधन के हाथ में आ गया है। उन्होंने अज्ञेय और धर्मवीर भारती का उदाहरण देते हुए बताया कि यह वह समय था जब मीडिया में लेखक ही सम्पादक होते थे और अब पत्रकारिता का वह समय जैसे पिछले जन्म की बात लगता है।

इससे पहले अभिरंग के परामर्शदाता डॉ पल्लव ने संस्था की गतिविधियों तथा उपलब्धियों की चर्चा की। उन्होंने नए सत्र के पदाधिकारियों की घोषणा की और इस सत्र से जुड़े नए विद्यार्थियों का स्वागत भी किया। इस सत्र के लिए विनीत कांडपाल संयोजक, राहुल सह संयोजक, काजल साहू कोषाध्यक्ष और विकास मौर्या सचिव के रूप में कार्य करेंगे। समारोह का संयोजन कर रही छात्रा काजल साहू ने अतिथि परिचय दिया।
हिंदी विभाग की अध्यक्षा डॉ रचना सिंह ने चतुर्वेदी को पुस्तकें भेंट कर अभिनन्दन किया। अंत में अभिरंग के संयोजक विनीत कांडपाल ने आभार प्रदर्शित किया। समारोह में बी ए तथा एम ए के विद्यार्थियों के साथ अभिरंग से जुड़े अनेक पुराने विद्यार्थी भी मौजूद थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.