आम जन का मीडिया
India has been closed, now it is necessary to do it!

भारत बंद तो हो गया,अब यह करना जरुरी है !

2 अप्रेल 2018 के भारत बंद के दौरान हुई हिंसा में देश भर में हमारे दर्जनों साथी मारे गये है और सैंकड़ों लोग घायल हुये है ,खबरें मिल रही है कि हजारों लोग विभिन्न थानों में पुलिस हिरासत में बंद है,उनके साथ बेरहमी से मारपीट की गई है ,उनका जातिगत अपमान किया जा रहा है ,स्थिति बहुत भयानक है ,कुछ सरकारी कर्मचारी भी टारगेट करके पकडे गये है ,जो साथी नेतृत्व करते है या बोलते रहते है ,उनको पहले से ही चिन्हित कर लिया गया था और पुलिस और जातिवादी सवर्ण भीड़ ने उनके साथ भयंकर हिंसा की है , देश भर में हजारों मुकदमें दर्ज किये गये है कठोर धाराओं में ताकि हमारी युवा पीढ़ी का भविष्य बर्बाद हो जाये .

बंद सफल रहा ,आपकी आवाज़ बुलंद हुई है ,लोगों ने शहादत दी है ,समाज के बेटे बेटियों ने अपना खून बहाया है ,ताकि हमारे संवैधानिक अधिकार सुरक्षित रह सके , अब हमारी जिम्मेदारी है कि जो लोग फंसे हुये है ,घायल है या मारे गये है ,जिनकी सम्पत्ति को नुकसान हुआ है ,उनकी मदद के लिये आगे आयें .

हमें तुरंत कुछ काम करने है जो इस प्रकार है –

1 – आपके इलाके में अगर कोई घायल है तो उनकी सूचि बनाइये ,उनको किस तरह की मदद की जरुरत है ? क्या उनका समुचित इलाज हो पा रहा है ? किसी भी साथी को इलाज के अभाव में जान नहीं गंवानी पड़े ,यह सुनिश्चित करना होगा .

2- आपके क्षेत्र में कितने लोग पुलिस हिरासत में है ,कितने गिरफ्तार है ,कितने जेल भेजे गये है ,कितने लोग पुलिस धरपकड़ के बाद मारे पीटे गये और बाद में छोड़ दिये गये है ,उनकी सूचि बनाइये ,उनको छुडवाने का काम कीजिये ,हमारे समुदाय के वकीलों का एक समूह बनाइये ताकि उनकी जरुरी कानूनी परामर्श और सहयोग लिया जा सके . आज ही सभी गिरफ्तार साथियों की लिस्ट बनाइये ,उनके परिजनों के नम्बर सहित उनको किस तरह की मदद चाहिए ,यह सुनिश्चित करना बेहद जरुरी है .

3- आपके शहर ,गाँव ,कस्बे में स्थित विभिन्न थानों में कितने मुकदमें दर्ज है ? किस किस धारा में किन किन लोगों पर एफआईआर लगी है ,इस प्रकार की सभी प्रथम सुचना रिपोर्ट्स की नक़ल निकलवाने की व्यवस्था कीजिये ,ताकि फंसे हुये लोगों को जरुरी विधिक सहायता मुहैया करवाई जा सके .

4- लोगों को सम्पत्ति सम्बन्धी क्या नुकसान हुआ है ? किनकी गाड़ियाँ जलाई गई है ,किनकी दुकान या मकान तोड़े गये है ,किनकी मोटर साईकलों को तोडा गया है ? संपत्ति के नुकसान का आकलन करके उसकी भी सूचि बनानी जरुरी है ,ताकि उनको मुआवजा मिल दिलवाया जा सके .

5 – आने वाला वक़्त और भी भयावह है ,इसकी प्रतिक्रिया में अभी बहुत कुछ होगा ,यह संघर्ष अभी शुरू हुआ है ,जो लोग टारगेट पर है ,उनसे चुन चुन कर दुश्मनी निकाली जाएगी ,हमारे दूर दराज के छोटे छोटे गांवों में रहने वाले अजा जजा वर्ग के लोगों और साथी कार्यकर्ताओ और नेतृत्व करने वालों की सुरक्षा भी सुनिश्चित करनी होगी .

मित्रों ,आन्दोलन एक दिन होता है ,उसका असर लम्बे समय तक होता है ,उससे प्रभावित होने वाले लोगों को मझधार में नहीं छोड़ा जा सकता है ,जिन्होंने समाज के लिये कुरबानी दी है ,उनके परिवार हमारी ज़िम्मेदारी है ,जिनके हाथ पांव टूटे ,चोटें आई है ,उनका ईलाज जरुरी है ,जो फंस गये है उनको कानूनी सहायता मिले ,उनकी जमानत हो ,वो अपने घर पंहुचे ,इसका विधिक रास्ता तय करना होगा ,यह लम्बा काम है ,लेकिन बहुत जरुरी काम है ,कृपया स्वतस्फूर्त तरीके से यह आज ही शुरू कीजिये .आप द्वारा जुटाए गये तथ्यों से हमें यहाँ अवगत करवाइए ,ताकि हम भी अपनी ओर से जो कर सकते है ,वह तुरंत करेंगे.

हमारा सम्पर्क सूत्र है – व्हाट्सएप – 7340243410 ईमेल – bhanwarmeghwanshi1975@gmail.com
कृपया तुरंत काम शुरू कीजिये

– भंवर मेघवंशी
( सामाजिक कार्यकर्ता एवं स्वतंत्र पत्रकार )

Leave A Reply

Your email address will not be published.