देसूरी मेघवाल समाज का ऐतिहासिक आयोजन !

शिक्षा शेरनी के दूध की तरह हैं,जो जितना पिएगा,वो उतना अधिक दहाड़ेगा- प्रो. मेघवाल

267

देसूरी में मेघवाल समाज की 111 प्रतिभाएं हुई सम्मानित

देसूरी। श्री मारवाड़ मेघवाल सेवा संस्थान के तत्वावधान में रविवार को देसूरी कस्बें के स्कूल मैदान में आयोजित तृतीय प्रतिभा सम्मान समारोह में शिरकत करने समाजजनों का सैलाब उमड़ पड़ा। संस्थान संरक्षक एवं पूर्व मंत्री अचलाराम मेघवाल की अध्यक्षता में आयोजित समारोह में 65 प्रतिशत अंक प्राप्त 111 सैकण्डरी,,सीनीयर सैकण्डरी,स्नातक,स्नातकोत्तर व नवनियुक्त कर्मचारियों का प्रशस्ति पत्र,स्मृति चिन्ह,बैग व अम्बेडकर साहित्य भेंट कर सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर भोपाल में ‘मेघवालज आईएएस’ नाम से कोचिंग सेन्टर चलाकर अब तक सौ आईएएस व आईपीएस बना चुके प्रो. पुरूषोत्तम मेघवाल ने कहा कि अम्बेडकर शिक्षा को शेरनी के दूध की तरह मानते थे और कहते थे कि जो जितना पिएगा। उतना ही अधिक दहाडेगा। उन्होंने महात्मा बुद्ध के संदेश ’अप्पोदीपो भव’ का संदर्भ देते हुए बताया कि व्यक्ति को स्वंय प्रकाशित होने की आवश्यकता हैं। उन्होंने कहा कि बाबा साहब अम्बेडकर का ’शिक्षित बनो,संगठित रहो,संघर्ष करो’ का नारा शोषितों-वंचितों के संदर्भ में आज भी प्रासंगिक हैं। शिक्षा से ही संकिर्णता,आड़म्बरों की बेड़ीयों के मानव मुक्त होगा और प्रगति की राह पकड़ेगा। उन्होंने बच्चों को प्रशासनिक सेवाओं में जाने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने सोच ऊंची रखनी चाहिए,छोटी सोच देशद्रोह के बराबर हैं।

मुख्य वक्ता मेघवाल समाज के राष्टीय नायक भंवर मेघवंशी ने कहा कि हजारों वर्ष से गुलामी की जंजीरों में झकड़ा समाज इस तरह के विशाल प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन कर रहा हैं। यह एक पिछड़े समाज की प्रगति के शुभ संकेत हैं। उन्होंने जब प्रतिभाएं पैदा हो रही हैं,तभी यह समारोह मना पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि समाज को अपने हक-हूकूकों के लिए संवैधानिक उपचारों व उपकरणों का प्रयोग करना चाहिए। उन्होंने समारोह को संस्थान में तब्दील करने का सुझाव दिया।

विशिष्ठ अतिथि ऑल इण्डिया दलित महिला अधिकार मंच की श्रीमती सुमन देवठिया ने कहा कि बाबा साहब अम्बेडकर ही था। जिन्होंने महिलाओं की आजादी के लिए जितने प्रयास बाबा साहब ने किए। उतने ओर किसी ने नही किए। इस दौरान अतिथियों का माला,साफा पहनाकर करतल ध्वनि व ‘जय भीम’ के उदघोषों से स्वागत-सम्मान किया। कार्यक्रम का संचालन रमेश सरेल, सुरेश भाटी,प्रकाश मोबारसा,सुखाराम तंवर ने किया।

’कस्बें में निकली बाइक रैली‘

समारोह का शुभारंभ बस स्टेड़ पर अम्बेडकर प्रतिमा स्थल पर अतिथियों द्वारा पुष्पांजलि के साथ हुआ। बाद में एसडीएम राजेश मेवाड़ा ने झण्डी बताकर रैली को रवाना किया। इसी के साथ ’जय भीम-जय भीम के नारों के साथ नारे लगाते हुए सैकड़ो भीम सैनिक भीम ध्वजों व पंचशील ध्वजों के साथ निर्धारित छह किमी लम्बे निर्धारित मार्ग से समारोह स्थल पर पहूंचे। समारोह स्थल पर भीम सैनिकों का जोरदार स्वागत किया गया।

’पदाधिकारी समारोह की सफलता के लिए जुटे रहे’

श्री मारवाड़ मेघवाल सेवा संस्थान के अध्यक्ष नारायणलाल तंवर,सचिव मांगीलाल गहलोत,कोषाध्यक्ष नारायणलाल लौंगेचा,प्रभारी प्रवीण कुमार,सहप्रभारी लक्ष्मण भटनागर,जसाराम सोलंकी,,पूर्व अध्यक्ष प्रमोदपालसिंह,पूर्व सचिव रमेश भाटी,,पूर्व कोषाध्यक्ष तुलसीराम बोस,पिछले समारोह के संयोजक टीआर भाटी,भंवरलाल सहित सभी पदाधिकारीगण एवं ग्राम प्रभारी समारोह की सफलता के लिए जुटे रहे।

’प्रतिभाओं को दिए गए कई पारितोषक’

प्रशस्ति पत्र,माला,स्मृति चिन्ह,बैग,फाइल-फॉल्डर,पेन सेट,सेलो बोतल,अम्बेडकर चित्र,कैलेण्डर,डिक्शनरी,,पुस्तक बुद्ध और धर्म,अम्बेडकर लाइफ एण्ड मिशन,घर-घर अम्बेडकर,मेघवंशी बाबा रामदेव,21 गोल्ड कोटेड व 51 सिल्वर मैडल प्रदान किए गए। इसी के साथ चार अधितकम अंक प्राप्त प्रतिभाओं को 2100 की राशी नकद प्रदान की गई। सीनीयर सैकण्डरी में जूणा मनीष सोलंकी व सैकण्डरी कक्षा में सादड़ी की सुश्री ह्र्दया मेघवाल ने सर्वाधिक अंक प्राप्त किए।

’दानदाता हुए सम्मानित’

समारोह में विभिन्न व्यवस्थाओ व आर्थिक सहयोग कर्ताओं को मंच पर विशेष सम्मान के साथ बैठाया गया और माला व साफा पहनाकर सम्मानित किया गया। इसी तरह समाजसेवियों व पंचों का भी माला-साफा पहनाकर सम्मान किया गया। भोजन की व्यवस्था देसूरी ग्राम के मेघवाल समाज की तरफ से की गई थी। इसके लिए प्रभारी प्रवीण कुमार सहित ग्रामके समाज बंधुओं का भी सम्मान किया गया। इस दौरान आगामी समारोह की व्यवस्थाओं और आर्थिक सहयोग की घोषणाकर्ताओं का स्वागत एवं सम्मान किया गया। अगला समारोह कोट सोलंकियान में आयोजित करने की घोषणा की गई।

Leave A Reply

Your email address will not be published.