आम जन का मीडिया
Drama-taiyari Dastan Mannu Myra Ki will be held on April 7

7 अप्रैल को आयोजित होगा नाटक-तैयारी दास्तानें मन्नू मायरा की

विकल्प नाट्य संगठन पिछले 45 वर्षों से रंगमंच के क्षितिज पर सक्रिय है और हमेशा हमारे सुधि दर्शकों को सामाजिक, राजनैतिक, सांस्कृतिक एवमं समसामयिक विषयों पर एक से बढ़ कर एक नाट्य प्रस्तुतियां देता आ रहा है.इसी क्रम में विकल्प आगामी 07,अप्रैल’ 2018, वार शनिवार सांय 7 बजे रवींद्र मंच के मुख्य सभागार में, रंगमंच के ख्यातिनाम वरिष्ठ रंगकर्मीं श्री एस.एन. पुरोहित द्वारा लिखित और उन्हीं के द्वारा निर्देशित नाटक- ” तैयारी दास्तानें मन्नू मायरा की” का भव्य मंचन करने जा रहा है. यह नाटक समाज में साम्प्रदायिक सदभाव, भाईचारे, एकता और समता की भावना को बल प्रदान करता है.

विकल्प नाट्य संघटन के संस्थापक सदस्य दिवंगत श्री राजेंद्र सिन्हा के स्मृति दिवस पर हर वर्ष की भांति यह नाट्य संध्या आयोजित की जा रही है.इस नाट्य संध्या के मुख्य अतिथि होंगे – प्रताप सिंह खाचरियावास (अध्यक्ष- जयपुर शहर जिला कांग्रेस कमेटी).विशिष्ट अतिथि होंगे- ईशमधु तलवार (महासचिव- प्रगतिशील लेखक संघ, राजस्थान) एवम कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे-एम.डी.अग्रवाल (संरक्षक- विकल्प नाट्य संघटन)

नाटक कथासार- देश के उत्तरी राज्य में विनाशकारी अति वृष्टि और बाढ़ में अपने सरे परिवार को खोकर,एक लड़की अनिश्चित गंतव्य यात्रा पर निकलती है. वहशी, भूखी आँखों से बचती, अपने स्वाभिमान और स्त्रीत्व की रक्षा करते हुए, पुलिस महकमें के एक शहरी अनजान के घर आश्रय पाती है. दोनों अलग धर्म के होकर भी एक दूसरे का सम्मान करते हैं और सहयोग भी. लेकिन आज के अतिवादी-सम्प्रदायवादी तबके के लोग इन दोनों को चैन से नहीं रहने देते. लड़के पर आरोप लगते हैं: समाज में गन्दगी फ़ैलाने और माहौल बिगाड़ने के. सामाजिक शांति के भंग होने की भी आशंका व्यक्त की जाती है. दोनों वर्गों के लोग विभिन्न प्रलोभन और चेतावनियां देतें हैं, परन्तु लड़का व् लड़की नहीं डिगते बल्कि विपरीत स्थितियां दोनों को एक दूसरे के और ज्यादा क़रीब लाती है. दोनों इस बीच आपस में प्रेम करने लगते हैं. हास-परिहास, नौक-झोंक और सरकारी जांच से गुज़रती कहानी आगे बढ़ती है. अंत सुखद है.नाटक की शैली निर्देशक-सूत्रधार के अभिनय और पूर्वाभ्यास पद्धति की है. परिवेश आज का है और भाषा उर्दू-मिश्रित हिंदी है.परिधान पात्र और अवसरानुकूल हैं.

नाटक में अभिनय करने वाले कलाकार हैं- डॉक्टर कविता माथुर, कुमारी स्नेहा, सर्व- श्री हरिनारायण शर्मा, विजय स्वामी, जे.सी.चौपड़ा, विवेक माथुर, संचित जैन, श्रेय श्रीवास्तव, अशोक जांगिड़, अखिल और अक्षय कुमार.संगीत परिकल्पना- श्री एस. एन. पुरोहित, संगीत ध्वनि प्रभाव- अक्षय कुमार शर्मा, प्रकाश संयोजन- श्री राजेंद्र शर्मा “राजू”, मंच सज्जा- अक्षय, अखिल, संचित, अशोक,श्रेय और विकल्प टीम.रूप सज्जा एवम वस्त्र विन्यास- डॉक्टर कविता माथुर एवम कुमारी स्नेहा द्वारा किया जायेगा.

Leave A Reply

Your email address will not be published.