दलित महिलाओं का ऐतिहासिक महासमागम !

204

दलित अधिकार केन्द्र जयपुर, दलित महिला मंच, राजस्थान व एक्शनएड जयपुर के संयुक्त तत्वाधान में दिनांक 4-5 अक्टूबर 2018 को पास्टल सोशल सेन्टर, मदार, अजमेर में राज्य स्तरीय ‘‘दलित महिला महा समागम‘‘ का ऐतिहासिक आयोजन किया गया।
उद्घाटन भाषण में श्रीमती सजना देवी, सैंथल दौसा ने कहां कि महिलाऐं किसी भी रूप में कम नही है महिलाओं को अवसर मिले तो अपनी प्रतिभा दिखाने में कही पर भी पीछे नही रहती। महिलाऐं आज प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, पत्रकार, अधिकारी, सामाजिक कार्यकर्ता, कुशल प्रशासक, अधिकारी, व्यापारी आदि बन रही है। आवश्यकता इस बात की है कि महिलाओं को अगर मंच मिले, तो महिलाऐं सामाजिक परिवर्तन में किसी भी रूप में पिछे नही है।

इस राज्य स्तरीय महा समागम में दो दिन तक चले प्रोग्राम में दलित महिलाओं ने ग्रामीण परिवेश, वेषभूषा व पहनावे के साथ भाग लिया, महिलाओं ने स्थानीय कला, परम्परागत सांस्कृतिक नृत्य, गीत, नाटक, संगीत, कविता आदि भावनाओं के माध्यम से जातिगत भेदभाव, लिंग भेद, सामाजिक कुरितियों, महिला हिंसा, बाल विवाह, आदि पर कटाक्ष कर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया।
इस राज्य स्तरीय ऐतिहासिक दलित महिला महा समागम में जाटव, मेघवाल, बैरवा, रैगर, बलाई, धानका, नायक, कंजर, कालबेलिया, नट, बावरिया, बागरिया, सालवी, जीनगर, भाम्बी, साठिया, ढोली, बेडिया, कोली, धोबी, खटीक, वाल्मीकी आदि दलित समुदाय की 25 जातियों की लगभग 200 महिलाओं ने भाग लिया।

इस कार्यक्रम में श्रीमती भवंरी बाई, अजमेर, महिला जन अधिकार समिति,  श्रीमती रेखा मेघवाल, पूर्व सरपंच, ग्राम पंचायत बसंत, जिला पाली, श्रमती मोहनी देवी, ग्राम गुठाकर, जिला भरतपुर को उनके दलित महिला आन्दोलन में उल्लेखनीय योगदान व सामाजिक परिवर्तन में सहयोग के लिए शाल, बाबा साहेब की तस्वीर व प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।
इस कार्यक्रम में प्रतिभागी महिलाओं को प्रमाण-पत्र देकर सम्मानित किया गया।

इस सम्मेलन के आयोजन का मुख्य उद्देश्य दलित महिलाओं को एक मंच प्रदान करना है ताकि इस मंच के माध्यम से दलितों के द्वारा दलितों में ही सामाजिक स्तर पर होने वाले आन्तरिक स्तर पर जातिगत भेदभाव को समाप्त किया जा सके। क्योकि पिछले लम्बे अनुभव के बाद में महसूस किया गया है कि सामाजिक परिवर्तन के लिए महिलाओं का योगदान रेखाकिंत करने योग्य होता है। क्यों की दलित महिलाओं के प्रयास से दलितों में होने वाली आन्तरिक स्तर पर भेदभाव को पुरूषों की तुलना में महिलाऐं आसानी से बदलाव ला सकती है, ताकि दलित समुदाय में होने वाला अंतरजातीय भेदभाव समाप्त हो सके, एक मंच पर आने से दलित महिलाओं में नेतृत्व क्षमता का विकास करना, कानूनी जानकारी प्रदान करना, गरीमा व स्वाभिमान की भावना पैदा करना है ताकि दलित महिलाऐं एक जुट होकर अपने अधिकार व सम्मान की बात कर सके।

राज्य स्तरीय दलित महिला महासमागम में दो दिन चले मंथन के बाद निम्न मुद्दों पर एक राय बनी जिनको समाज में लागू करने की पहल पर जोर दिया जायेगाः-

1. महिलाओ में कुशल व प्रतिभावान नेतृत्व क्षमता रखने वाली महिलाओं को चिन्हित किया गया।
2. दलित समुदाय की महिलाओं ने एक दूसरे से जातिगत भेदभाव समाप्त कर एक दूसरे के सामाजिक समारोह, शादी ब्याह में भाग लेने का निर्णय लिया।
3. बालिका शिक्षा को बढावा देने का निर्णय लिया गया।
4. सामाजिक कुरितियों को बन्द करने, अपव्यय को रोकने का निर्णय लिया गया।
5. महिलाओं को पंचायतीराज व राजनीति में परिवार व सामाजिक स्तर पर सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए अवसर प्रदान करने का निर्णय लिया गया।
6. चिन्हित महिलाओं को दलित महिला मंच, व दलित अधिकार केन्द्र द्वारा विभिन्न कानूनों पर प्रशिक्षण देने के बारे में एक राय बनी।
7. दलित महिला मंच राजस्थान की ओर से जिला स्तर पर, दलित महिला प्रतिनिधियों का चयन किया जायेगा जो स्थानीय स्तर पर महिलाओं के मुद्दों को उठाने का काम करेगी।
8. स्वच्छ प्रजातंत्र के लिए योग्य व सक्षम दलित महिलाओं की राजनीति में सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करना ।
9. दलित महिलाओं को सरकार की योजनाओं से जुडना व आर्थिक रूप से सबल बनाने के लिए प्रयास करना।
10. दलित महिलाओं की सभी स्तरों पर पहुंच सुनिश्चित हो।
11. सामाजिक न्याय एवं संविधान की रक्षा के लिए प्रयास किया जायेगा।
12. प्रदेश स्तर पर दलित महिलाओें को जागरूक करने, के लिए विशेष प्रशिक्षण अभियान चलाया जायेगा।

राज्य स्तरीय दलित महिला महासमागम कार्यक्रम के आयोजक मण्डल के सदस्य श्री सतीश कुमार और निदेशक, दलित अधिकार केन्द्र ,श्रीमती शांति देवी, अध्यक्ष दलित महिला मंच,राजस्थान , श्रीमती अनिता वर्मा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष दलित महिला मंच,राजस्थान, श्रीमती मोहनी देवी उपाध्यक्ष, दलित महिला मंच,राजस्थान, श्रीमती कुमुन्द कुण्डारा, कोषाध्यक्ष, दलित महिला मंच,राजस्थान, श्रीमती पूजा सिंह, राज्य समन्वयक दलित महिला मंच,राजस्थान, श्रीमती इन्दिरा सोलंकी, सचिव, दलित महिला मंच,राजस्थान, श्रीमती सुनीता बैरवा, प्रचारमंत्री, दलित महिला मंच,राजस्थान, श्रीमती अर्चना पालीवाल, सचिव, दलित महिला मंच,राजस्थान, सुश्री गिरजेश दिनकर, एक्शनएड से सुश्री सुशीला,  गुजरात ने मुख्य रूप से भाग लिया।

इसके अलावा कार्यक्रम में सामाजिक संगठनों की महिला प्रतिनिधि, महिलाओं पर काम करने वाले संगठन, महिला समुदायिक लीडर, सिविल सोसायटी के प्रतिनिधि, महिला जनप्रतिनिधि, महिला एडवोकेट, महिला सामाजिक कार्यकर्ता मुख्य रूप से भाग लिया। ।

भवदीय

(चन्दा लाल बैरवा )
राज्य समन्वयक
मो. 9982246315

Leave A Reply

Your email address will not be published.