Browsing Category

राजनीति

कॉमरेड येचुरी मिले युसूफ तारीगमी से

( अरुण माहेश्वरी ) कामरेड सीताराम येचुरी ने कश्मीर के अवाम के वामपंथी नेता यूसुफ़ तारीगमी से श्रीनगर में मुलाक़ात की और उनके कुशल-क्षेम की जानकारी लीं । कामरेड तारीगमी को कश्मीर के दूसरे राजनेताओं के साथ ही 5 अगस्त से नज़रबंद रखा गया

चीन क्यों डर रहा इन युवाओं से ?

( विक्रम सिंह चौहान ) अमेरिका के बाद विश्व का दूसरा चौधरी बनने का मंसूबा पाले बैठा चीन हांगकांग के 22 वर्षीय दो युवा नेताओं से बुरी तरह डर गया है। आज हांगकांग में चीन के नए चुनाव कानून और प्रत्यर्पण कानून के विरोध में ऐतिहासिक आंदोलन

अनुच्छेद- 370 : अर्धसत्यों की भरमार !

( राम पुनियानी ) भारत सरकार ने कश्मीर के लोगों की राय जानने की प्रजातांत्रिक कवायद किए बगैर अत्यंत जल्दबाजी में संविधान के अनुच्छेद 370 और 35ए के संबंध में निर्णय लिया है। जम्मू-कश्मीर राज्य अब दो केन्द्र शासित प्रदेशों में बंट गया है।

कमंडल के पहियों तले बर्बाद ओबीसी वर्ग

( प्रेमाराम सियाग ) 1931की जनगणना के हिसाब से ओबीसी की जनसंख्या 52%,एससी की 16% व एसटी की 7.5%थी।भारतीय संविधान का अनुच्छेद 16(4)यह कहता है कि सरकार बैकवर्ड क्लास के लिए आरक्षण की व्यवस्था कर सकती है।उस समय आरक्षण की व्यवस्था सिर्फ एससी व

छात्र संघ चुनावों की खुमारी !

( पवन'अनाम' ) आजकल छात्रनेताओं की जमात बड़ी तेजी से बढ़ी है। दरअसल यह एक हवा है। यह वृद्धि अनिश्चित है,चिंताजनक भी। जमात बढ़ती रही तो हर महाविद्यालय/विश्विद्यालय में नेताओं की टोली घूमती नज़र आएगी छात्र नहीं,फिर मैं समझता हूँ ये

चिदंबरम की गिरफ्तारी एक बड़ा राजनैतिक स्टंट है!

-प्रेम कृष्ण शर्मा वैसे मेरे मन में चिदम्बरम के लिये कोई हमदर्दी नहीं है और न यह कह रहा हूँ कि उनके द्वारा कोई भृष्ट कारनामा किये जाने की कोई सम्भावना ही नहीं है। चिदंबरम,सिद्धार्थ शंकर रे जैसे नामी वकील जो नेता भी रहे हैं

ओबीसी समाज आज भी सोया हुआ है !

-संजीव खुदशाह पिछले दिनों छत्तीसगढ़ में अन्य पिछड़ा वर्ग समाज का आरक्षण 14% से बढ़ाकर दोगुना 27% कर दिया गया आदरणीय भूपेश बघेल मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ शासन ने 15 अगस्त 2019 को यह निर्णय लिया यह घोषणा ओबीसी समाज के बिना मांग बिना प्रतिवेदन

भारतीय राजनीति की बिसात पर गौमाता !

- राम पुनियानी भाजपा और उसके सहयात्रियों के हिन्दू राष्ट्र की स्थापना के एजेंडे में गाय का महत्वपूर्ण स्थान है. माब लिंचिंग इसका एकमात्र परिणाम नहीं है. लिंचिंग के अधिकांश शिकार धार्मिक अल्पसंख्यक और दलित हैं, जैसा कि फिल्म और अन्य

आजादी की लड़ाई से प्रेरणा लेने की जरुरत सिर्फ बहुजनों को ही क्यों!

-एच.एल. दुसाध आधी रात बीत चुकी है.1947 में आज ही के दिन अर्द्धरात्रि में कांग्रेसी पंडित जवाहर लाल नेहरु ने अंग्रेजों से भारत की आजादी की घोषणा की थी. तबसे हम आज के दिन इस समय आजादी के जश्न में खो जाते हैं. बहरहाल अंग्रेजों से आजादी

विविधता ,संघीय शासन और अनुच्छेद 370

- सम्राट बौद्ध आम तौर पर प्रजातान्त्रिक देशों में शासन का स्वरूप दो तरह का होता है, पहला- एकात्मक और दूसरा -संघात्मक।वे देश जिनमे धार्मिक, भाषाई व नृजातीय विविधता नही पाई जाती है, उनमें एकात्मक शासन व्यवस्था होती है , क्योंकि इन