Browsing Category

राजनीति

मजबूत नहीं मजबूर सरकार चुनिए 

- विद्या भूषण रावत आज स्वन्तन्त्र भारत के सबसे महत्वपूर्ण  आम चुनावो की शुरुआत होने जा रही है. हमें उम्मीद है देश के जन मानस आज अपनी समझदारी से बदलाव की दिशा में वोट करेंगे.आज हमारे राष्ट्रपिता ज्योति बा फुले का जन्म दिन है…

कभी कचरा बीनते थे और आज चंडीगढ़ के मेयर है राजेश कालिया !

दलित वाल्मीकि समुदाय से आने वाले 46 वर्षीय राजेश कालिया शनिवार को हुए एक चुनाव में 20 में से 16 वोट पाकर मेयर बन गए हैं I राजेश कालिया कभी अपने 6 भाई-बहनों के साथ कूड़ा उठाकर परिवार का गुजारा करते थे I राजेश के पिता कुंदनलाल ने मीडिया से…

राजस्थान विधानसभा चुनावों में आरक्षित सीटों की स्थिति !

  राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018 में अनुसूचित जाति की 34 आरक्षित सीटों में इस बार कांग्रेस के 19 उम्मीदवार, बीजेपी के 12, निर्दलीय 1 और राष्ट्रीय लोकतान्त्रिक पार्टी के 2 उम्मीदवार चुनाव जीते हैं I अनुसूचित जनजाति की 25 आरक्षित सीटों में…

राजस्थान को गहलोत पसंद है !

(भंवर मेघवंशी) राजस्थान में भाजपा की विदाई हो गई है , कांग्रेस बहुमत के करीब है। बसपा को 6 सीट मिली है, आश्चर्यजनक रूप से भारतीय ट्राइबल पार्टी ने 2 सीटें जीत ली है, माकपा से भी दो कॉमरेड एमएलए बन गये है । कईं निर्दलीय भी जीत…

राहुल गाँधी ने सी.पी जोशी के बयान को लेकर लगायी फटकार !

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने डॉ सीपी जोशी द्वारा दिए गए बयान को लेकर खेद जताया है उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि "सीपी जोशी जी का बयान कांग्रेस के आदर्शों के विपरीत है I पार्टी के नेता ऐसा कोई बयान न दे जिससे समाज के किसी भी वर्ग को दुःख…

अन्ततः अंदर का जातिवाद जबान पर आ ही जाता है !

(भंवर मेघवंशी) नाथद्वारा के कांग्रेस प्रत्याशी डॉ सी पी जोशी के इस भाषण में पिछड़ी जाति के कुछ नेताओं की धर्म को लेकर समझ पर उन्होंने सवाल उठाये हैं,उनका कहना है कि.." धर्म के बारे में अगर कोई जानते है तो पण्डित जानते है, विद्वान जानते है…

केवल आरक्षित सीटों पर ही महिलाओं को मौका क्यों ?

(भंवर मेघवंशी) दोनों प्रमुख राजनैतिक दलों द्वारा महिलाओं को प्रतिनिधित्व देने के नाम पर सर्वाधिक टिकट सिर्फ और सिर्फ रिजर्व सीटों पर ही देने का चलन बढ़ता जा रहा है ,यह कोटे में कोटे की राजनीति है। इसके जरिये कई निशाने साध लिए जाते…

पूना पैक्ट की दुबर्ल संतानें !

(भंवर मेघवंशी) स्थापित दलों में ज्यादातर रिजर्व सीटों पर टिकट पाने में फिर से पूना पैक्ट की दुर्बल संताने ही कामयाब हो गई लगती है,सबसे पहले हम दलितों आदिवासियों को खैरख्वाह बनने का दम्भ भर रही कांग्रेस की प्रत्याशी सूचि पर नजर डालें तो यह…

चुनावों से ठीक पूर्व दलबदल को भ्रष्ट आचरण माना जाए !

(एल एस हरदेनिया) चुनाव के ठीक पूर्व के दलबदल ने प्रजातंत्र के लिए गंभीर कलंक का रूप ले लिया है। इस तरह का दलबदल सिर्फ चुनाव जीतने के लिए किया जाता है। दुःख और चिंता की बात यह है कि लगभग सभी पार्टियों को इस तरह के दलबदल से परहेज नहीं है। इस…