Browsing Category

नज़रिया

लोग हो गये गोरधन !

( राजा राम भादू )दीपावली से जुड़ी पर्व- श्रृंखला में गोबर्धन भी एक पर्व है। इस दिन की महिमा मैं ने वैसी अन्यत्र नहीं देखी जैसी ब्रज में विद्यमान है। मथुरा के निकट गोबर्धन है। उसी अंचल में गोवर्धन पर्वत स्थित है। पहाड की परिभाषा के हिसाब से

वामपंथियों को गद्दार कहने वाले जरुर पढ़े !

( मनीष सिंह )  हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी नाम का एक संगठन उस जगह बना था, जिसे आप फिरोजशाह कोटला कहते है, आज क्रिकेट की वजह से जाना जाता है। वह कोटला जो सुल्तान फिरोजशाह की आरामगाह था। वह मुसलमान सुल्तान जिसने अशोक के धराशायी हो

केबीसी में मनुस्मृति दहन पर प्रश्न से मचा बवाल

(राम पुनियानी ) ‘कौन बनेगा करोड़पति’ (केबीसी) सबसे लोकप्रिय टीवी कार्यक्रमों में से एक है. इसमें भाग लेने वालों को भारी भरकम धनराशि पुरस्कार के रूप में प्राप्त होती है. हाल में कार्यक्रम के ‘कर्मवीर’ नामक एक विशेष एपीसोड में अमिताभ

कुछ बातें नेहरु के बहाने !

( अशोक़ कुमार पाण्डेय ) जवाहर लाल नेहरु का ज़िक्र सोशल मीडिया, अखबारों और चंडूखानों में केवल 14 नवम्बर तक महदूद नहीं रहता. वह एक तरफ आज़ाद हिन्दुस्तान के निर्माता हैं तो दूसरी तरफ़ कश्मीर को राष्ट्र संघ में ले जाके उलझाने वाले. एक तरफ

आरक्षण का आधार और महत्त्व !

( प्रो. विवेक कुमार )पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया में आरक्षण के विरोध में तमाम तरह के लॉजिक इसके विरोधियों द्वारा दिए जा रहे हैं। इनमें में कुछ कॉमन लॉजिक ऐसे हैं जिन्हें हम बेसिरपैर बातें कहें तो अधिक सही होगा। उन 'महान' ज्ञानियों के

यह क़ुफ़्र है मुनव्वर राना साहब !

( पंकज श्रीवास्तव )मुनव्वर राना को सुनते हुए आंसू निकल आते हैं। चाहे मां पर लिखा हो या 'मुजाहिरनामा', सुनिए तो दिल रो उठता है। अब वो कह रहे हैं कि पैगंबर या देवी देवताओं का अपमान करने वालों का क़त्ल कर देंगे। यक़ीन नहीं होता कि मुहब्बत में

कोरोना से अधिक मैं अमिताभ बच्चन से परेशान हूँ !

यह वेदना है कैलाश जी की है जो केन्द्रीय रिजर्व पुलिस फ़ोर्स में कार्यरत सहायक उपनिरीक्षक है. वे जीयो मोबाईल फोन सेवा सहायता केंद्र पर फोन करते हुए शिकायत करते हैं, जिसे एक महिला अटेंड करती है. पुलिस अफसर बोलता है-‘मेडम जी, जब भी मैं किसी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा शस्त्र पूजन अनुचित

( एल. एस. हरदेनिया, भोपाल ) भारतीय संविधान के अंतर्गत देश के नागरिक की हैसियत से मैं माननीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा शस्त्र पूजन करने पर सख्त आपत्ति करता हूं। आपत्ति के कारण इस प्रकार है। शस्त्र पूजा मूलता हिंसा का प्रतीक है।

समाज का ऋण चुकाने में निवेश

( पे बैक टू सोसायटी के एक असफल तथा दो सफल प्रयोगों पर डॉ. सिरीषा पटिबंदला और डॉ.जस सिमरन कहल का विचारोत्तेजक आलेख  ) गुरप्रीत (बदला हुआ नाम), पंजाब के एक ग़रीब परिवार की दलित लड़की, बारहवीं कक्षा के इम्तिहान में 99 फ़ीसद से भी ज़्यादा

हिन्दू राष्ट्र के लिए अनशन की नौटंकी !

(कँवल भारती)अयोध्या में कोई परमहंस साधु हैं, जो भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने के लिए अनशन पर बैठ गए हैं. इनके पूरे माथे पर चन्दन का लेप है, भगवाधारी हैं. अद्भुत है कि ये कर्महीन नर हैं, पर इसके बावजूद इन्हें सकल पदार्थ उपलब्ध हैं. इसी तरह