Browsing Category

नज़रिया

हागिया सोफिया का संग्रहालय से मस्जिद बनना: बदल रहा है समय

( राम पुनियानी ) पिछले तीन दशकों में वैश्विक राजनैतिक परिदृश्य में व्यापक परिवर्तन आये हैं. उसके पहले के दशकों में दुनिया के विभिन्न देशों में साम्राज्यवादी और औपनिवेशिक ताकतों से मुक्ति के आन्दोलन उभरे और लोगों का ध्यान दुनियावी मसलों

कोविड के बहाने शिक्षा का साम्प्रदायिकीकरण

( राम पुनियानी ) कोविड 19 ने जहाँ पूरी दुनिया में कहर बरपा कर रखा है वहीं कई देशों के शासक इस महामारी के बहाने अपने-अपने संकीर्ण लक्ष्य साधने में लगे हैं. कई देशों में अलग-अलग तरीकों से प्रजातान्त्रिक अधिकारों को सीमित किया जा रहा है,

ये जो बच्चे 95 और 99.9 प्रतिशत अंक पा रहे हैं ..!

(कविता कृष्णपल्लवी ) जमकर अंक ला रहे बच्चों के माँ-बाप अपना 56 इंची सीना टोले-मोहल्ले और फेसबुक पर दिखा रहे हैं, मुआफ़ करें, इससे मुझे कोई खुशी या उत्साह अनुभव नहीं हो पाता. ऐसे तमाम अभिभावक अपने बच्चों को हैसियत, पैसे और सुरक्षा

राजद्रोह कानून का प्रयोग अपने विरोधियों के खिलाफ न करे राजस्थान सरकार !

पण्डित नेहरू ने इसे खराब बताया था तथा कांग्रेस के घोषणा पत्र 2019 में इसे हटाने की बात कहीं गई है। पिछले कुछ हफ्तों में देखा गया है कि राजस्थान में सत्ता दल के कुछ विधायक तथा विपक्षी दल मिलकर कांग्रेस की विधिवत रूप से निर्वाचित सरकार को

केरल, मोपला क्रांति और साम्प्रदायिकीकरण

पिछले कुछ महीनों से केरल ख़बरों में है. मीडिया में राज्य की जम कर तारीफ हो रही है. केरल ने कोरोना वायरस का अत्यंत मानवीय, कार्यकुशल और प्रभावी ढंग से मुकाबला किया. इसके बहुत अच्छे नतीजे सामने आये और लोगों को कम से कम परेशानियाँ भोगनी

महात्मा गाँधी, नस्ल और जाति

-राम पुनियानी राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी ने दुनिया के सबसे बड़े जनांदोलन का नेतृत्व किया था. यह जनांदोलन ब्रिटिश साम्राज्यवाद के विरुद्ध था. गांधीजी के जनांदोलन ने हमें अन्यायी सत्ता के विरुद्ध संघर्ष करने के लिए दो महत्वपूर्ण औज़ार दिए

कोविड-19 दलित महिलाओ को बना रहा है और ज्यादा गरीब !

( सुमन देवठिया ) इस समय कोरोना महामारी पूरे देश मे फ़ैल रही है जिसकी चपेट मे भारत भी है, इस कोरोना ने ना केवल इंसान के स्वास्थ्य को प्रभावित किया है बल्कि इंसान के रोजगार, आजादी और पसंद को छीन लिया है. कोरोना ने लोगो की आजादी,

वंचित समूहों को कब मिलेगी घुटन से मुक्ति ?

-राम पुनियानी अमरीका के मिनियापोलिस शहर में जॉर्ज फ्लॉयड नामक एक अश्वेत नागरिक की श्वेत पुलिसकर्मी डेरेक चौविन ने हत्या कर दी. चौविन ने अपना घुटना फ्लॉयड की गर्दन पर रख दिया जिससे उसका दम घुट गया. यह तकनीक इस्राइली पुलिस द्वारा खोजी गई

केरल में गर्भवती हथिनी की मौत: एक त्रासदी का साम्प्रदायिकीकरण

-राम पुनियानी भारत के विविधवर्णी समाज में साम्प्रदायिकता का रंग तेज़ी से घुलता जा रहा है. धार्मिक अल्पसंख्यकों को निशाना बनाया जा रहा है, उनके विरुद्ध हिंसा की जा रही है और फिर उसे औचित्यपूर्ण ठहराया जा रहा है. हमारे समाज के

धार्मिक स्वातंत्र्य: कहां खड़ा है भारत

-राम पुनियानी भारत अनेक धर्मों वाला बहुवादी देश है. हिन्दू धर्म के मानने वालों का यहाँ बहुमत है परन्तु इस्लाम और ईसाई धर्म में आस्था रखने वालों की संख्या भी कम नहीं है. हमारे स्वाधीनता संग्राम के नेता सभी धर्मों को बराबरी का दर्जा