Browsing Category

रूबरू

एक गाँव गोद लो – मनुवाद को रोक लो !

चेतनभाई दलाभाई रोहित गॉव-नवावास,तहसील-दांता,बनासकांठा जिल्ला (गुजरात) के निवासी है,पेशे से ईलेक्ट्रीकल कांट्रेक्टर है,चेतनभाई ने अपनी माँ मूळीबेन दलाभाई रोहित की तरफ से अपने बेटे पार्थ और बेटी रितु के द्वारा घर घर अम्बेडकर पुस्तिकाए 100 घर…

आज हीर जी का पचासवाँ जन्मदिन है .

भीलवाड़ा जिले के करेड़ा कस्बे के नजदीकी रेह गांव के निवासी हीरालाल बलाई ,जिन्हें प्यार से सभी साथी हीरजी के नाम से पुकारते है। अत्यंत सामान्य ग्रामीण पृष्ठभूमि के परिवार में पैदा हुये। गरीबी को बहुत नजदीक से देखा और भोगा भी। परिवार की…

‘चीनी मांझे से गला कटाईल हो रामा’

दोस्तों की दुआ से बच गया वरना अबतक तो तेरही की तय्यारी हो रही होती.एक सप्ताह पहले एक्टिवा चलाते हुए चीनी मंझे की चपेट में आ गया.गला रेता गया, ऊँगली ककड़ी की तरह नाख़ून सहित दो फांक हुई सो अलग.लगभग ज़िबह हुआ ही चाहता था.एक हाथ से रोजमर्रा की…

दो युवा आये थे … !

11 दिसम्बर 2017 की सुबह मुम्बई से भीलवाड़ा पँहुचने वाली ट्रेन से दो युवा उतरे ,उनकी मंजिल 180 ,अम्बेडकर भवन था ,जो कि भीलवाड़ा शहर से 30 किलोमीटर दूर माण्डल तहसील के एक गांव सिरडियास में मौजूद है ,ये दोनों मराठी युवक यशवंत राव चव्हाण स्कूल ऑफ…

हिदायत भाई और हरिकाका !

शून्यकाल की पूरी टीम तकरीबन सात घंटे के सफर के बाद गुजरात के पालनपुर जिले के कुम्भासन गांव पँहुची । हम कुंभासन में अमन ,इंसानियत और भाईचारे के लिए समर्पित विचारवन्त युवा हिदायत खान के मेहमान थे ,हिदायत भाई हमारे मित्र रमेश पतालिया जी के…

मुसलमानों ,अब तो संभल जाओ !

- हैदर रिज़वी अब से सम्भल जाओ मुसलमानो.... तुम घेरे जा चुके हो... घर में तुम्हें तुम्हारी सरकार मारेगी और बाहर अमेरिकी सरकार.... और उस वक़्त काला हरा सफ़ेद अमामा या कोई भी नारा काम न आएगा..... जितनी जल्द हो सके अपने नेताओं की बातों…

एक कॉमरेड की अलमस्त फ़कीरी !

नेहा को जन्मदिन पर फकीरी मुबारक हो... ! - किशन मेघवाल  आप सोच रहे होंगे मैंने नेहा जो कि मेरी जीवनसाथी है ,उसके  जन्मदिन पर फकीरी मुबारक क्यों बोला ? तो जनाब और क्या बोलता ? मेरे जीवनसाथी के किसी भी जन्मदिन पर कभी भी मैंने कोई भी गिफ्ट…

इनका काम अम्बेडकर मिशन को पलीता लगाना है !

- जितेन्द्र विसारिया  बिना लाग लपेट के सुनिए ... कुछ साल पहले इनको  'भोले बाबा' के नाम से जाना जाता था, अब यह साकार विश्व हरि बन चुके हैं। इस संस्कारी नाम पर ध्यान दीजिए, ज़नाब दलित समाज में ही पैदा हुए हैं और इनका मुख्य काम प्रकारांतर…

अनूप सर की नालन्दा एकेडमी !

इंडियन कम्युनिटी एक्टिविस्ट नेटवर्क के वार्षिक सम्मेलन में सेवाग्राम के गांधी आश्रम जाने का मौका मिला । यहां पहुंच कर बाड़मेर के युवा साथी हरीश सेजु से पता चला कि राजस्थान के कुछ दलित युवा वर्धा में रहकर उच्च शिक्षा के लिए कोचिंग कर…

बाकी सब कुशल-मंगल है !

गला मेरा भी सूखता है. थकान मुझे भी होती है. लेकिन काम भी तो कितना सारा है. अधूरा है. अभी कुछ बाकी है. प्रोफेशनल जीवन में जो ऊंचाई चाही, सब मिल गई. ज्यादा ही जल्दी सब कुछ होता चला गया. दुनियावी सुख-सुविधा, पारिवारिक जीवन में किसी तरह का कोई…