ईवीएम को लेकर बड़ा खुलासा

- गिरीश मालवीय

204

कल ईवीएम को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ हैं एक आरटीआई में प्राप्त जानकारी से पता चला कि ईवीएम की खरीद-फरोख्त में गंभीर बेमेल देखने को मिला है,दरअसल चुनाव आयोग हैदराबाद स्थित ECIL और बेंगलुरु स्थित BEL से ही इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनें खरीदता है. EVM खरीदी को लेकर दोनों कंपनियों और चुनाव आयोग के आंकड़ों में बड़ा अंतर सामने आया है चुनाव आयोग जो आंकड़े दे रहा है और ये दो कम्पनिया जो आंकड़े बता रही है उसमें करीब 19 लाख ईवीएम का अंतर आ रहा है

चुनाव आयोग का कहना है कि उन्हें बीईएल से 10 लाख 5 हजार 662 EVM प्राप्त हुए. वहीं बीईएल का कहना है कि उसने 19 लाख 69 हजार 932 मशीनों की आपूर्ति की. दोनों के आंकड़ों में 9 लाख 64 हजार 270 का अंतर है.

ठीक यही स्थिति ECIL के साथ भी है जिसने 1989 से 1990 और 2016 से 2017 के बीच 19 लाख 44 हजार 593 ईवीएम की आपूर्ति की. लेकिन चुनाव आयोग ने कहा कि उन्हें केवल 10 लाख 14 हजार 644 मशीनें ही प्राप्त हुईं. यहां भी 9 लाख 29 हजार 949 का अंतर मिल रहा है

ओर यही बात भी अनेक बार उठाई जाती हैं कि आखिर चुनाव आयोग जो मशीनें राज्यों में भेजता है क्या उन्हीं मशीनों से चुनाव होते है खुद चुनाव आयोग को इस बात को लेकर संदेह है इसीलिए वह आने वाले चुनाव में क्यू आर कोड से एक-एक मशीन की मॉनीटरिंग करने की योजना बना रहा है बताया जा रहा है कि इस बार जो ईवीएम मशीनें निर्वाचन प्रक्रिया के लिए भेजी जा ही हैं, उनकी मॉनीटरिंग मोबाइल एप के माध्यम से की जा रही है। पहले यह काम कंप्यूटर के माध्यम से होता था। मोबाइल एप पर क्यू आर कोड के माध्यम से मशीन का पूरा ब्यौरा उपलब्ध रहेगा।
इससे यह भी आसानी होगी कि कौन सी मशीन किस नंबर की है,

आपको याद होगा कि जब मध्यप्रदेश के भिंड जिले की अटेर विधानसभा सीट पर उपचुनाव थे तो मुख्य चुनाव अधिकारी सलीना सिंह उपचुनाव की तैयारियों का जायज़ा लेने पहुंची थीं. वहाँ सलीना सिंह ने जब डमी ईवीएम के दो अलग-अलग बटन दबाए तो पेपर ट्रेल मशीन से कमल के निशान का प्रिंट निकला था तब भी यह प्रश्न खड़ा हुआ था कि आखिरकार इस तरह की गड़बड़ करने वाली मशीन आ कहा से गयी, चुनाव आयोग ने कोई स्पष्ट जवाब न देते हुए वीवीपीएटी पर भांडा फोड़ा था

लेकिन ऐसी सिर्फ एक ही घटना नही घटी अनेक जगहों पर यह पाया गया कि ईवीएम से एक पार्टी विशेष को ही वोट जाते हैं महाराष्ट्र के बुलढाना जिले में पार्षद चुनाव के दौरान लोणार के सुल्तानपुर गांव में तो स्वयं कलेक्टर ने माना कि ऐसी गड़बड़ी उसके देखने मे आयी हैं ओर यह घटना भी अनिल गलगली द्वारा लगाई गयीं एक आरटीआई के जवाब में लिखित रूप में दर्ज की गयी कलेक्टर ने बताया कि निर्दलीय उम्मीदवार को वोट करने पर ईवीएम में भाजपा के आगे की एलईडी लाइट जल रही थी। इसकी जानकारी निर्वाचीत अधिकारी ने जिला अधिकारी को दी थी

Leave A Reply

Your email address will not be published.