Notice: Trying to get property of non-object in /customers/9/9/d/shunyakal.com/httpd.www/wp-content/plugins/custom-sidebars/inc/class-custom-sidebars-replacer.php on line 523
आम जन का मीडिया

पत्रकार जी,दलितों पर लिखते वक्त आपकी स्याही क्यों सूख जाती है ?

करेड़ा में विगत ढाई साल से 27 दलित परिवारों पर जारी अमानवीय अत्याचारों की गूंज जयपुर और दिल्ली तक भी पंहुची हैं, जिसका परिणाम यह है कि प्रशासन ने कुछ ठोस कदम उठाये है । शुरूआती एक मामले में 14 लोग गिरफ्तार किए गए हैं और विवादित जमीन और…

अजमेर में आरएसएस की अम्बेडकर जयंती !

( अजमेर में RSS द्वारा डाॅ अंबेडकर जयंती के अवसर पर "प्रबुद्धजन संगोष्ठी" आयोजित हुई।मेरा आग्रह है कि इस आँखों देखे कार्यक्रम की समीक्षा जरूर पढें। मुझे आज प्रातः संगोष्ठी में भाग लेने के लिए निमंत्रण पत्र दिया गया। मैं मेरे मिशनरी साथी डाॅ…

कठुआ रेप पीडिता के लिये शम्भूगढ़ कस्बे में कैंडल मार्च !

भीलवाड़ा जिले के शम्भुगढ़ कस्बे के सभी मानवतावादी व न्यायप्रिय साथियों ने शाम 8 बजे कठुआ की रेप पीडिता को न्याय दिलाने के लिए कैंडल मार्च में शामिल होकर अपने आप में मानवीय मूल्यों को जिंदा रखते हुए इस केंडल मार्च में शामिल हुए। कैंडल मार्च…

दलित आदिवासी दमन के विरुद्ध राज्य भर में प्रदर्शन

आज राज्य भर में जिला मुख्यालयों तथा कई जगह तहसील मुख्यालयों पर दलित आदिवासी दमन प्रतिरोध आंदोलन के बैनर तले विरोध प्रदर्शन कर 2 अप्रैल के भारत बंद के दौरान दर्ज किये गये,तमाम मुकदमें वापस लिये जाने तथा जेल में बंद कि ये गये दलितों को रिहा…

नारी, तू निरी ठहरी !

आदरणीय भारत जी, बचपन में सुना था कि भारत हमारी माता है। पर इस माता की छाँव में रहने के दिशा-निर्देश हम महिलाओं को अधिकतर पिता-पति-भ्राता आदि भांति-भांति के पुरुष देते हैं। अतः यह पत्र आपको पिता समझ कर ही लिख रही हूँ। एक चर्च के "फ़ादर" की…

आखिर जिग्नेश मेवाणी से डर गई वसुंधरा सरकार !

.......तो कैसी करेगी चुनाव का मुकाबला ? राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार ने 15 अप्रैल को गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी को न तो नागौर के मेड़ता रोड में सभा करने दी और न ही जयपुर में किसी से मिलने दिया। यहां तक के पूर्व मंत्री…

बहुजन नायकों और ब्राह्मणवादी गुरुओं का भेद

गौतम बुद्ध को पता चल चुका था कि उनकी मृत्यु तय हो चुकी है. एक गरीब लोहार के घर जहरीला भोजन खाने से उनके शरीर में जहर फैलने लगा था. गौतम बुद्ध जहर को अपने शरीर में फैलता हुआ अनुभव कर रहे थे. उन्होंने तुरंत घोषणा करवाइ कि वे अब विलीन होने…

म्हारो थारो के हुयो !

ये जम्मू कश्मीर में उस जबान का हिस्सा है,जो गूजर- बकरवाल बोलते है।कश्मीर में चौधरी मसूद उस गूजर समुदाय के पहले ग्रेजुएट है। वे पुलिस सेवा में एडिशनल डी जी पद तक पहुंचे और फिर राजौरी में एक यूनिवर्सिटी के संस्थापक कुलपति भी रहे।कहने लगे-…

सोशल मीडिया के माध्यम से संगठित हुई महिलाएं

कठुआ में एक नाबालिग की बलात्कार के बाद हत्या और बलात्कारियों के समर्थन में सिविल सोसायटी के एक हिस्से के सड़क पर आने से देश भर की न्यायप्रिय जनता चिंतित है. इसी तरह यूपी के उन्नाव में बलात्कार की शिकार नाबालिक लड़की के पिता की जेल में हत्या…

ओशो रजनीश और भारत के बहुजनों का भविष्य

ओशो रजनीश पर जो नयी डॉक्युमेंट्री आई है उसे गौर से देखिये. शीला एक नादान किशोरी की तरह रजनीश से मिलती है. शीला के पिता रजनीश से प्रभावित हैं. शीला को उनके पिता कहते हैं कि ये व्यक्ति अगर लंबा जी सका तो ये दुसरा बुद्ध साबित होगा. हर…