Notice: Trying to get property of non-object in /customers/9/9/d/shunyakal.com/httpd.www/wp-content/plugins/custom-sidebars/inc/class-custom-sidebars-replacer.php on line 523
आम जन का मीडिया

सांचोर की सच्चाई जानकर सिहर उठेंगे आप !

दक्षिणी पश्चिमी राजस्थान के जालोर जिले के सांचोर कस्बे में रानीवाड़ा चार रास्ता पर स्थित अम्बेडकर प्रतिमा से 2 अप्रेल भारत बंद रैली सांचोर के मार्किट की तरफ शांतिपूर्ण तरीके से आगे बढ़ रही थी ,आसपास के गांवों से हजारों की तादाद में लोग अपने…

‘नीम का थाना’ में दलित आदिवासियों को ‘सबक सिखाने’ के लिये ‘सुनियोजित…

राजस्थान की भाजपा सरकार द्वारा दलितों व आदिवासियों का ‘सफाया’ किस तरह किया जा रहा है, उसका एक नमूना देखिए-सीकर जिले के नीम का थाना में 3 अप्रेल को 3 बजकर 34 मिनट पर दर्ज की गई इस एफआईआर का नंबर है 112/2018 उपनिरीक्षक मनोहरलाल द्वारा दर्ज…

क्या अंबेडकर के चित्रों पर माल्यार्पण ही उनका सम्मान है ?

14 अप्रैल को पूरे देश में लगभग सभी राजनैतिक दलों और समूहों ने डॉ भीमराव अंबेडकर की 127वीं जयंती जोरशोर से मनाई। परन्तु इस मौके पर भाजपा का उत्साह तो देखते ही बनता था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अंबेडकर को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि…

“ रानीवाड़ा के जख्म हमारी रूह से रिस रहे है …!”

राजस्थान के दक्षिण भाग में स्थित है जालोर जिला ,उसका एक ब्लॉक है रानीवाड़ा ,जहाँ पर विगत कुछ बरसों से दलित युवाओं में काफी जागृति आई है ,इस सामन्तवादी और अत्यंत जातिवादी इलाके में दलित और आदिवासियों में आ रही चेतना सवर्ण जातिवादी तत्वों को…

बहुजनों,अब बाजार की ओर कूच करो !

2अप्रैल को आपने साबित कर दिया कि पूरा बहुजन समाज संगठित व एकजुट है तथा बुद्ध व बाबासाहेब के मार्ग पर तेजी से चलने को उतावला है।अंबेडकर का सपना था कि उनका समाज आर्थिक रूप से मजबूत हो,इसलिए सामाजिक एकता के बाद हमें पूरा जोर आर्थिक विकास पर…

अब उनका फोन कभी नहीं आएगा

तेरे केस का क्या हो रहा है ? कहाँ आंदोलन चला रहा है ,बड़ा बुरा हाल है , दिल्ली आना तो मिलना ,तू कुछ कर यार ,समाजवादी आंदोलन फिर खड़ा करना है ,वो विजय क्या कर रहा है? सच्चर साहेब की यह आत्मीयता भरी उलाहने भरी आवाज़ कानों में रह रह कर गूंज रही…

बाबा साहेब अंबेडकर की अंतिम इच्छा क्या थी ?

वैसे तो जीवन में इच्छाओं को पूरा नहीं किया जा सकता है लेकिन जो लायक औलादें होती हैं.वे अपने माता पिता,गुरू अथवा महापुरुष की अंतिम इच्छा को जरूर पूरा करने का प्रयास करती हैं।बाबा साहेब अंबेडकर के पुत्र की जिस दिन मृत्यु हुई थी,उसी दिन बाबा…

मुख्यमंत्री को मेघवाल पसन्द नहीं है !

राजस्थान में सत्तारूढ़ पार्टी में जब जब भी संगठनात्मक बदलाव की चर्चा चलती है ,तब तब केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल का नाम मीडिया में उछाला जाता है । अभी भी जैसे ही प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी से इस्तीफा लिया गया तो नए अध्यक्ष के रूप में…

दलित शब्द से किसे प्रॉब्लम है ?

दलित शब्द दलन से अभिप्रेत है , जिनका दलन हुआ ,शोषण हुआ ,वो दलित के रूप में जाने पहचाने गये । दलित शब्द दुधारी तलवार है ,यह अछूत समुदायों को साथ लाने वाला एकता वाचक अल्फ़ाज़ है , इससे जाति की घेराबंदी कमजोर होती है और शोषितों की जमात…

कर्नाटक चुनाव और दलितों तथा लिंगायतों की बदलती भूमिका

पिछले महीने के आखिर में चुनाव आयोग ने कर्नाटक चुनाव की तारीखों की घोषणा की. इससे पहले ही कर्नाटक की सभी पार्टियों ने अपनी कमर कस ली थी क्यूंकि 2018 के कर्नाटक चुनाव उन पार्टियों के आने वाले भविष्य के लिए एक फाइनल मैच की तरह है. कांग्रेस के…