सुलगते शब्द पर एक समीक्षात्मक नजर

( बीकानेर के युवा साहित्यकार श्याम निर्मोही के संपादन में हाल ही में सिद्धार्थ बुक्स गौतम बुक सेंटर दिल्ली से प्रकाशित कृति *सुलगते शब्द (दलित काव्य संकलन) पूरे भारतवर्ष में परचम लहरा रही है । भारत के विभिन्न क्षेत्रों से साहित्यकारों ने

भीटा में अम्बेडकरवादियों का पुस्तकों से स्वागत !

भीलवाड़ा जिले की रायपुर पंचायत समिति की  भीटा ग्राम पंचायत के ग्राम सरेवड़ी ,भटेवर ,थोरिया खेड़ा,   भीलो का खेड़ा,  रूपा का खेड़ा,  दलित आदिवासी साथियों की मीटिंग बाबा रामदेव मंदिर में  न्यू अंबेडकर युवा संगठन ब्लॉक रायपुर रखी गई . बैठक

नाटक की सार्थकता उसके पढ़े जाने में नहीं, उसके देखे जाने में : असग़र वजाहत

(प्रो. असग़र वजाहत) हिन्दू कालेज में वेबिनार - दिल्ली। नाटक पढ़ने की चीज नहीं है, वह देखे जाने की चीज है। नाटक की सार्थकता उसके मंचन किये जाने में होती है। नाटक में निहित अथाह संभावनाओं के कारण इसमें लोगों की रुचि बनी रहती है, क्योंकि

मायावती ,मीडिया और समाज की सोच

(सम्राट बौद्ध ) एक बार को आप भूल जाइए की आप कौनसी राजनीतिक विचारधारा से आते है और किस राजनेता को पसंद या नापसन्द करते है। भारतीय राजनीति में शिला दीक्षित, सुषमा स्वराज, से लेकर ममता बनर्जी तक तमाम राजनेता आज है और रही हैं। पर ऐसा

भारत में इस बार यह ‘वैक्सीन संक्रांति’ है !

(डॉ. महेश अग्रवाल)  वर्ष 2021 की यह मकर संक्रांति सचमुच सबसे अलग है। अलग इस मायने में कि अमूमन हर साल संक्रांति पर तिल-गुड़, पतंगबाजी, सूर्योपासना और शिव मंदिरों में खिचड़ी अर्पण करने की गहमागहमी होती है, लेकिन इस बार सिर्फ एक ही चीज की

राष्ट्रीय युवा दिवस पर मेरी स्वरचित कविता ” 21 वीं सदी का युवा ” पढ़िए !

( राजमल रेगर ) "21 वी सदी का युवा "  में 21वी सदी का युवा देख रहा हूँ, सामाजिक कार्यकर्ताओं के जेलों मेंभरे जाने पर इनकी चुप्पी देख रहा हूँ, में इनका  घूट - घूट कर जीना देख रहा हूँहाँ मैं 21 वी सदी का युवा  देख रहा हूँ |सत्ता की

होना चाहिये था यह, ला दिये नये कृषि कानून !

(श्याम सुन्दर बैरवा)आज देशव्यापी किसान आंदोलन को चलते डेढ़ महीना होने जा रहा है, लेकिन मजाल कि तथाकथित ’किसान हितैषी सरकार’ ने कोई कड़ा फैसला लिया हो। जुमले पर जुमले हैं!! किसान कड़कड़ाती ठण्ड में सब कुछ छोड़कर धरने पर बैठने को मजबूर हैं

मांडल में जार का जिला सम्मेलन सम्पन्न नैतिक मूल्य आधारित पत्रकारिता को बढ़ावा दिया जाए-मेघवाल

भीलवाड़ा. पत्रकारों के हितों के लिए प्रेस क्लब भीलवाड़ा जिले में जार के साथ सहभागिता निभायेगा-सुखपाल भीलवाड़ा-(मूलचन्द पेसवानी)जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन ऑफ राजस्थान जार की भीलवाड़ा जिला शाखा का जिला सम्मेलन मांडल में जार के प्रदेश अध्यक्ष

सावित्रीबाई फुले:भारत की पहली अध्यापिका !

(एच.एल.दुसाध)आज देश की पहली महिला अध्यापिका व नारी मुक्ति आंदोलन की पहली नेत्री सावित्रीबाई फुले का जन्म दिन है.इसे लेकर विगत एक सप्ताह से सोशल मीडिया में उस बहुजन समाज के जागरूक लोगों के मध्य भारी उन्माद है जो उन्हें अब राष्ट्रमाता के

जय पाल सिंह मुंडा भारत के आदिवासी समुदाय की पहचान थे !

(कमलेश मीणा)जयपाल मुंडा भारत के उन समुदायों के लिए वकालत कर रहे थे, जिन्हें "जंगली" और "आदिमानव" के नाम से जाना जाता था, जो इस ग्रह के मूल निवासी थे, जिनके पास जल, जंगल, ज़मीन के लिए आधिकारिक अधिकार थे और जिनके पास इस भूमि का स्वामित्व था,