जातिवादी समाज पर चोट करती ‘आर्टिकल 15’

फिल्म समीक्षा- 'आर्टिकल 15'

1,659

(ममता मेघवंशी)

“आर्टिकल 15” फिल्म एक सोशल मैसेज देने वाली है । और यह बहुत संवेदनशील विषय है । यह फिल्म जातिवाद पर भारतीय समाज की एक सामूहिक विफलता पर बात करती है ।
भारतीय संविधान का अनुच्छेद 15 ऐसा मौलिक अधिकार है जो यह सुनिश्चित करता है कि किसी भी भारतीय नागरिक से उसके धर्म , नस्ल ,जाति, लिंग या जन्म-स्थान के आधार पर भेदभाव नही किया जाएगा ।

इस फिल्म की कहानी वर्तमान समय की स्थिति को बयां कर रही है कि कैसे आज 2019 में भी लोगो के साथ भेदभाव हो रहा है । जब कोई नीची जाति की लड़कियां अपने हक़, अपने अधिकार के लिए बात करती है तो उनका रेप करके उनको मार कर पेड़ पर लटका दिया जाता है । ताकि पूरी जात को उनकी औकात का पता रहे और वह फिर ऐसे बोलने की हिम्मत ना करे । फिल्म में आयुष्मान खुराना(अयान रंजन) एक बहुत अच्छे ,सच्चे और निडर पुलिस ऑफिसर है । जो अपने काम को बहुत ही ईमानदारी से निभा रहे है । वही एक पुलिस वाला कुत्ते के प्रति दयालु है लेकिन वही पुलिस वाला दलितों से भयानक घृणा करता है यानि उसकी करुणा के हकदार कुत्ते है, मनुष्य नही I ये विडंबना किसी भी संवेदनशील इंसान को विचलित कर देगी । यह पुलिस और एक पुलिसवाला भी उन 2 लड़कियों के रेप के शामिल होता है। मारने का इल्जाम मृतक लड़कियों के पिता पर लगा दिया जाता है यह काम इन पुलिस वालों की और से ही किया जाता है ।
मुहम्मद जीशान अय्यूब( निशाद ) दलित युवा जो अपने हक के लिए आवाज बुलंद करने वाले रोल को बहुत प्रभावित करता है। मोहम्मद जीशान आयूब भी दिखे जो आयुष्मान से कहते हैं ”ये उस किताब को नहीं चलने देते जिसकी शपथ लेते हैं.” इस पर आयुष्मान कहते हैं ”यही तो लड़ाई है उस किताब की चलानी पड़ेगी उसी से चलेगा ये देश.”
गौरा (सयानी गुप्ता ) का किरदार बहुत ही अच्छा है।
एक जगह बहुत ही गंदे नाले में डुबकी लगाते सफाई कर्मचारी को देखकर आप कांप जाते है । वह दृश्य है जो हमारे आप – पास रोज होता है और इससे बहुत से सफाई कर्मचारियों की मौत हो जाती है।
डायलॉग :- ”मैं और तुम इन्हें दिखाई ही नहीं देते हैं. हम कभी हरिजन हो जाते हैं तो कभी बहुजन हो जाते हैं. बस जन नहीं बन पा रहे कि जन गण मन में हमारी भी गिनती हो जाए. इंसाफ की भीख मत मांगो बहुत मांग चुके”
फर्क बहुत कर लिया ,अब फर्क लाएंगे ।

 

(ममता मेघवंशी) 

Leave A Reply

Your email address will not be published.