इस बार कुछ इस तरह मनाएं अंबेडकर जयंती !

41

(डॉ. एम. एल. परिहार)

इस बार कुछ इस तरह मनाएं अंबेडकर जयंती :-

 

कार्यक्रम की शुरुआत संविधान की प्रस्तावना के सामुहिक पठन से करें।

• मंच के पीछे एक बड़ा बैनर लगाएं, जिस पर बुद्ध, फुले, कबीर, बाबासाहेब व रैदास पांच आदर्शों के चित्र हो।

• वक्ताओं में एक छात्र व छात्रा को अवश्य रखें।

• अतिथियों ,दानदाताओं व प्रतिभाओं का स्वागत साफा माला मोमेंटो की बजाय बुद्ध, बाबासाहेब के साहित्य व चित्र भेंटकर व गले में पंचशील के पटके से करें।

• कार्यक्रम में दर्शकों से गुटखा, शराब व अन्य नशा नहीं करने की प्रतिज्ञा करवाएं।

•दर्शकों के हाथ गले आदि मे अंधविश्वास के लाल काले धागों को हटवा कर वैज्ञानिक सोच पैदा करें।

• गर्वनमेंट एम्पलॉई व उद्यमियों से ‘पै बेक टू सोसायटी’ के भाव के तहत समय,धन,ज्ञान व श्रम दान का प्रतिज्ञा दिलवाएं।

• बुद्ध,बाबासाहेब व बहुजन साहित्य व अन्य प्रचार सामग्री की स्टॉल लगवाए ,ताकि विचारधारा का प्रचार तेजी से हो।

• समाज के समक्ष रोजगार के संकट को ध्यान में रखते हुए, आर्थिक प्रगति के लिए युवाओं को बिजनेस की ओर, प्राइवेट सेक्टर में कूदने पर जोर देवे।

( भवतु सब्ब मंगलं )

डॉ. एम. एल. परिहार

Leave A Reply

Your email address will not be published.