घुमन्तू समुदायों के सवालों पर हुई राष्ट्रीय बैठक !

197

विमुक्त घुमंतू अर्द्ध घुमंतू जनजातियों के लिए आर्थिक पैकेज की मांग उठी 


राजस्थान में घुमन्तू बोर्ड के अध्यक्ष रहे गोपाल केसावत की पहल पर  डीएनटी के  अग्रणी लोगों ने “ वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण एंव राष्ट्र की विमुक्त घुमंतू अर्द्ध घुमंतू जनजातियों के समक्ष चुनौतियॉं “  विषय पर चर्चा की । मींटिग में पंजाब , हरियाणा , दिल्ली , उत्तरप्रदेश , मध्य प्रदेश , गुजरात , महाराष्ट्र , राजस्थान , उत्तराखंड, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, तेलंगाना , आन्ध्रप्रदेश, केरल , अन्य राज्यों के प्रतिनिधियों ने मीटिंग में भाग लिया ।

इस वीडियो कांफ्रेंसिंग में  गोपाल केसावत ने मुख्य वक्ता के रूप में केन्द्र सरकार मानसून सत्र में डीएनटी आयोग बालकृष्ण रेनके आयोग एंव दादा इदाते आयोग की रिपोर्ट लागू करने के की ससंद पेश करे नहीं तो देशव्यापी सोशल मीडिया पर सोशल वार ट्विटर ट्रेन्ड् किया जायेगा इसके लिए देश में डीएनटी सोशल फ्लेटफॉर्म विकसित करने का आह्वान किया और केन्द्र सरकार डीएनटी समुदायों के गौरवशाली इतिहास एंव संस्कृति को स्कूली स्तर से विश्वविद्यालय स्तर के पाठ्यक्रमों में सम्मिलित करे और 31अगस्त को राष्ट्रीय अवकाश घोषित करे क्योंकि यह राष्ट्र की डीएनटी जातियों के लिए स्वाभिमान शौर्य  गौरवशाली स्वतन्त्रता दिवस है । जनगणना में डीएनटी कॉलम अलग से हो और महाराष्ट्र पैट्र्न पर देश की विमुक्त घुमंतू अर्द्ध घुमंतू जनजातियों को आरक्षण दे ।

महाराष्ट्र से विधान परिषद सदस्य राजेश राठौड़ ने मीटिंग में सम्मिलित होकर मुख्य रूप से महाराष्ट्र सहित देश की विमुक्त घुमंतू अर्द्ध घुमंतू जनजातियों के की पुरज़ोर रूप से आवाज़ उठाने की बात कहीं और केन्द्र सरकार को पत्र प्रेषित कर डीएनटी की रिपोर्ट लागू करने के लिए प्रयास करेंगे और महाराष्ट्र में प्रवासी श्रमिकों की पूरी मदद की जायेगी उनके गृहराज्य में भिजवाने के लिए महाराष्ट्र सरकार का पूरा सहयोग रहेगा ।

हरियाणा से डॉ बलवान अध्यक्ष ,राज्यमंत्री विमुक्त घुमंतू अर्द्ध घुमंतू जनजाति बोर्ड  हरियाणा सरकार ने कोरोना संक्रमण कालखंड में हरियाणा में पूरी हरसंभव मदद की गई है और उन्होंने मीटिंग एनएफएसए में देश की विमुक्त घुमंतू अर्द्ध घुमंतू जनजातियों को बीपीएल की भाँति योजना से जोड़ा जाए सभी राज्य सरकारें एंव केन्द्र सरकार उन्होंने यह भी बात रखी कि केन्द्र में डीएनटी की रिपोर्ट लागू करने के लिए केन्द्र सरकार को पत्र प्रेषित कर अवगत करायेंगे । 

घुमंतू चिंतक एंव लेखक भँवर मेघवंशी ने कोरोना कालखंड में घुमन्तू समुदायों की स्थिति पर अपनी बात रखते हुए कहा कि देश की अर्थव्यवस्था में विमुक्त घुमंतू अर्द्ध घुमंतू जनजातियों का अहम योगदान है, लेकिन अब उनके लिए भी वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण रोज़ी रोटी का संकट खड़ा हो गया है ,जिसे केन्द्र सरकार एंव राज्य सरकार खाद्यान्न सुरक्षा योजना के अंतर्गत भारतवर्ष की डीएनटी जनजातियों को विशेष लाभ दे एंव प्रवासी श्रमिकों में सर्वाधिक संख्याबल घुमंतू जनजातियों का केन्द्र सरकार उन्हें तत्काल अपने गृह राज्य में पहुँचाए पशुपालकों को लेकर चिंता जताई । घुमंतु समुदाय को मनरेगा योजना में अतिरिक्त श्रम दिवस दिये जाए । 

डॉ मदन मीना डीएनटी सोशल एक्टिविस्ट एंव शौधार्थी देश की घुमंतू जनजातियों की आर्थिक स्थिति आज़ादी से पूर्व एंव वर्तमान में ठीक नहीं है और कोरोना वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण ये देश की घुमंतू जातियों की कमर तोड़ दी है देश में डीएनटी की जनजातियों में रोज़ी रोटी का संकट खड़ा हो गया है । केन्द्र एंव राज्य सरकारों को कारगर कदम उठाने चाहिये । उन्होंने डीएनटी की लीडरशिप का अभाव बताया और पुरज़ोर रूप से डीएनटी को साँझा मंच पर एकजुट होने की आवश्यकता बताया लोक कलाकारों के लिए अलग से पैकेज की मॉंग उठाई ।

हरिभाऊ राठौड़ विधान परिषद सदस्य एंव पूर्व सॉंसद महाराष्ट्र ने केन्द्र सरकार से अलग से आर्थिक पैकेज की घोषणा करे एंव विभिन्न राज्यों डीएनटी प्रवासी श्रमिकों को केन्द्र सरकार विशेष विमुक्त घुमंतू अर्द्ध घुमंतू जनजातियों के ट्रेंन संचालित करे जो  प्रवासी श्रमिकों को वापस लाया जाए और वर्चुअल मीटिंग को डीएनटी के लिए भविष्य के लिए कारगर सिद्ध बताया भविष्य में लगातार कार्य करने के सुझाव दिया सामाजिक रूप से एकजुट करना होगा ।

रविन्द्र सिंह साहसी उत्तर प्रदेश से उन्होंने मीटिंग में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर कहा कि देश की विमुक्त घुमंतू अर्द्ध घुमंतू जनजातियों के लिए सबसे भयंकर दौर से गुजर रही है । देश की विमुक्त घुमंतू अर्द्ध घुमंतू जनजातियों के लिए वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग जैसी पालना करना चुनौतीपूर्ण कार्य है क्योंकि आवास नहीं है । सामाजिक न्याय के लिए सोशल आंदोलन की ज़रूरत बताया और ग़ैर राजनीतिक रूप से महा गठबंधन करना होगा सभी सामाजिक संगठनों को और जन जागरण कर समाज में जाग्रति लानी होगी .

सुनील मलके राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिल भारतीय सहंसमल भांतू समाज महासभा नई दिल्ली ने वक्तव्य रखते हुए कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण डीएनटी के लिए चुनौती है । हमें एकजुट होकर लड़ना होगा और भामाशाहों को आगे आना होगा सामाजिक रूप से सभी राजनैतिक दलों पर दवाब बनाकर राजनैतिक प्रतिनिधित्व के लिए देश की घुमंतू जनजातियों के लीडरशिप को आगे आना होगा ।

पारस बंजारा डीएनटी सोशल एक्टिविस्ट राजस्थान से वर्चुअल मीटिंग देश का डीएनटी समुदाय इन्फ़ॉर्मेशन टेक्नोलॉजी की महत्ता को समझते हुए केन्द्र सरकार एंव राज्य सरकार के डिजीटल फ़ॉर्म से जुड़कर जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ लेवे एवं केन्द्र सरकार और राज्य सरकारें एनएफएसए योजना के सिस्टम को दुरुस्त करे डीएनटी समुदाय के सामने कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है और राज्य सरकार डीएनटी बोर्ड का गठन जल्द गठन करे । देश में घुमंतू जनजातियों के लिए डाटा तैयार किया जाए ।

सागर आर कच्छावा मध्यप्रदेश ने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण से देश की विमुक्त घुमंतू अर्द्ध घुमंतू जनजातियों अधिक प्रभावित हुई है केन्द्र सरकार एंव राज्य सरकारें आर्थिक पैकेज घोषित करे देश की डीएनटी जनजातियों को एक प्लेटफ़ॉर्म  पर आने की आवश्यकता है और सर्वसम्मति से डीएनटी की कमान युवा नेतृत्व को सौंपी जानी चाहिए ।

कालूराम लोहार मारवाड़ी गुजरात से डीएनटी समुदाय के लिए और विशेष कामगार हाथ करघा के लिए आर्थिक पैकेज देना चाहिए एंव दैनिक दिहाड़ी मज़दूर वर्ग के समक्ष कोरोना से चुनौती है मासिक 10-15हजार कोरोना मासिक भत्ता योजना केन्द्र सरकार बनाए ।

संत भजनाराम ने देश की विमुक्त घुमंतू अर्द्ध घुमंतू जनजातियों को देश लोक संस्कृति एंव स्वतन्त्रता संग्राम में कूद कर देश आज़ादी में अहम योगदान दिया देश की संस्कृति की पहचान डीएनटी जनजातियों  से है ।

डॉ नवीन नारायण ( डीएनटी मामलों के विशेषज्ञ ) ने डीएनटी की पुरानी समस्या बताया सरकार से सवैंधानिक अधिकारों के लिए लड़ना होगा ,हम सभी डीएनटी नेताओं को एकजुट होकर मंच पर आना होगा ।

मनीराम गजुआ लेक्चर ने कोरोना से रोटी और जान बचाने की डीएनटी के लिए गंभीर समस्या है देश की विमुक्त घुमंतू अर्द्ध घुमंतू जनजातियों के लिए राशन आपूर्ति प्रणाली को केन्द्र सरकार दुरुस्त करे ।राजस्थान में डीएनटी बोर्ड का गठन जल्द करे । 

अन्तराष्ट्रीय लोक कलाकार गाजी खान बरणा ने कोरोना वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण से लोक कलाकारों के सामने विकट चुनौती खड़ी है केन्द्र सरकार परम्परागत लोककलाकारों को आर्थिक पैकेज और मासिक 20हजार वेतन देना चाहिए । 

बक्श  खान गुणसार ने पश्चिमी राजस्थान के लोक कलाकारों लिए विशेष योजना बनानी चाहिए क्योंकि पश्चिमी राजस्थान में जीविकोपार्जन के लिए संगीत है मागणयार लोक कलाकारों की प्राचीन काल से संस्कृति रही है । 

एडवोकेट नरेन्द्र गजुआ ने देश के डीएनटी युवा वकीलों को केन्द्र सरकार एंव राज्य सरकार विशेष पैकेज दे । डाटा विशेषज्ञ पूर्व निजी सचिव पुष्कर लाल गजुआ ने देश में आज़ादी के बाद लगभग 10राज्यो में डीएनटी बोर्ड का गठन हुआ लेकिन बजट नहीं दिया गया है आज़ादी के  73 में केन्द्र सरकारों ने डीएनटी बजट नहीं दिया है ।

रामस्वरूप मालावत ने अपराधी आदतन अधिनियम 1959 को ख़त्म करने की पुरज़ोर रूप से मॉंग उठाई । कुलदीप सिंह मालावत निजी सचिव ने कोरोना वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण से डीएनटी जनजातियों को केन्द्र सरकार की योजना को दुरुस्त करने के सुझाव दिए ।

डॉ लोकेश मालावत ने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण से सोशल  डिस्टेंसिंग एंव सैनेटाइज एंव देश के डीएनटी समुदायों को केन्द्र सरकार चिकित्सा के क्षेत्रों कल्याणकारी योजना बनाए । ज़ूम एप पर सम्पन्न इस बैठक में विभिन्न राज्यों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया और तय किया गया कि जल्द ही प्रधानमंत्री एंव राष्ट्रपति एंव मुख्यमंत्री के नाम मेल के माध्यम से ज्ञापन भेजा जायेगा । 

Leave A Reply

Your email address will not be published.