आप क्या मैसेज देना चाहते है चंद्रशेखर ?

204

(सतीश कुमार पिल्लई )


हाथ मे लट्ठ गले मे नीला पटका ,मसल्स का सार्वजनिक प्रदर्शन कर देश भर से आई बहुजन जमात को क्या संदेश देना चाहते हैं ये नेता जी  कि सारे लोग लट्ठ उठा लें या सारे लोग बाहू वल का प्रयोग करें ?


अगर इसका सीधा सा मतलब यही है तो हम संविधान को मानने वाले लोग वास्तविक रूप से आताताई नेतृत्व के हाथों खेल रहे हैं और इसका नतीजा कभी भी समाज की बहुत बडी मानवीय हानी के रूप मे सामने आ सकता है । निहत्थे प्रदर्शन कारी सरकार की संयुक्त कार्यवाही का किस प्रकार मुकाबला कर पायेंगे .


अभी देर नहीं हुई है हमे इतनी सारी जनभागीदारी के प्रदर्शनों के स्थान पर देश के हर न्यायालय में अपने अधिवक्ताओं की लीगल क्लीनिक बनाई जानी चाहिए और उन्हें फंडिंग के लिए राष्ट्रीय कोष की स्थापना कर उसके ट्रष्टी समाज के गणमान्य , सेवा निवृत बरिष्ठ लोक सेवकों , बैचारिक परिपक्व लोगों के समूह को नेतृत्व देना चाहिए ।

देश के हर माध्यम से इसका व्यापक प्रचार-प्रसार कर राष्ट्रीय कोष के बैक खाते मे भुगतान के हर उस माध्यम से जो देश मे उपलब्ध है से 1 रू से लेकर अधिकाधिक राशि जमा कराने का आव्हान करना चाहिए प्राप्त राशि का विधिवत लेखा आनलाईन देखा जा सके यह भी व्यवस्था हो ।

यदि किसी वक्त पर राष्ट्रीय समिति यह समझे की उसे आर्थिक तंगी महसूस हो रही है तो बह व्यय का अनुमान बताते हुए फंडिंग के लिए अपील कर सकती हैं ।
यहां यह कहना भी उचित होगा कि आये दिन समाज पर हो रहे अनाचार अत्याचार के प्रकरणों मे पीड़ित परिवारों की मदद का आव्हान करते हुए पीड़ित परिवार का खाता संख्या सार्वजनिक कर कम से कम एक करोड रूपये सीधे ही जमा करने का प्रयास भी किया जाना चाहिए इससे होगा यह की जो दलाल हमारे समाज मे पनप गये है और उनका काम ही अपनी राजनीतिक पहचान बनाना भर रह गया है तथा समाज का आर्थिक दोहन भी ये लोग कर रहे हैं इनसे कुछ हद तक छुटकारा मिल जायेगा ।
लीगल क्लीनिकों के जरिए हम अपने समाज के अन्याय अत्याचारों के लिए देशभर की कोर्ट्स मे अपनी वात बेहतर तरीके से रख पायेंगे साथ ही अगर न्यायालय में न्याय‌ नही मिलता है तो हम मामले को उच्च से उच्चतम न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय तक प्रकरण निस्तारित करवा पायेंगे ,।।
यदि इस पर समाज और समाज का नेतृत्व गौर करे तो हमे सड़कों पर लडाई लडने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी समस्त कार्य संवेधानिक दायरे मे होना सम्भव हो जायेगा संय जरूर लग सकता है ।।        Attachments area

Leave A Reply

Your email address will not be published.