पिता बेंचते है लँगोट,बेटी ने कुश्ती में जीता ब्रॉन्ज मेडल

132

दिव्या काकरान ने 18वें एशियन गेम्स में मंगलवार को ब्रॉन्ज मेडल जीत लिया. उन्होंने 68 किग्रा. फ्रीस्टाइल कुश्ती में यह मेडल जीता. दिव्या ने रेपिचेज राउंड में ताइवान की चेन वेनलिंग को 10-0 से हराया.दिव्या को मंगोलिया की पहलवान तुमेनटसेटसेग शारखु ने क्वार्टर फाइनल में 11-1 से मात दी थी इससे उनका स्वर्ण जीतने का सपना टूट गया था .

दिव्या काकरान दिल्ली के गोकुलपुर में रहती है और पिछड़े समुदाय से आती है ,इनके पिता लंगोट बेंचते है और माँ लँगोट सिलती है. दिव्या दिल्ली स्टेट चैंपियनशिप में 60 मैडल जीत चुकी है और 8 बार ‘भारत केसरी’ रह चुकी है .इससे पहले दिव्या 2017 में कॉमनवेल्थ रेसलिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मैडल और 2017 में ही एशियन  रेसलिंग चैंपियनशिप में सिल्वर मैडल जीत चुकी है .

जीत के बाद दिव्या ने कहा “मै ऐसे परिवार से आती हूँ जहाँ कभी कभी दूध का खर्च भी नहीं उठा पाते हैं,लेकिन आज मेने मैडल जीता है. आज मै तीसरे नम्बर पर थी,कल दुसरे पर और एक दिन पहले पायदान पर होऊँगी. मै टोकियो ओलम्पिक में अपना बेहतरीन दूंगी”

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.